पाकिस्तान में मंदिर पर फिर हमला, 22 महीने में 9वां हमला, हमलावर गिरफ्तार

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| पड़ोसी देश पाकिस्तान के सिंध प्रांत में एक बार फिर हिंदू मंदिर पर हमला किया गया है. इस बार मां दुर्गा की प्रतिमा को हथौड़े (Hindu Temple attacked in Sindh Province of Pakistan) से तोड़ा गया. आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है.

यह मंदिर कराची (Karachi, Pakistan) के रणछोड़ लाइन एरिया में है. घटना के बाद अल्पसंख्यक समुदाय के कई लोग जमा हो गए. पुलिस के मुताबिक, घटना की जांच की जा रही है.

सिंध में हिंदू लड़कियों के जबरिया धर्म परिवर्तन की घटनाएं भी होती रही हैं. यहां पहले भी हिंदू मंदिरों पर हमले हुए हैं.

मंदिर के दूसरे हिस्से में भी तोड़फोड़

पाकिस्तान के टीवी चैनल ‘समा न्यूज’ ने कराची की इस घटना के बारे में जानकारी दी है. इस चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक – सोमवार रात एक मुस्लिम व्यक्ति कराची के पॉश इलाके रणछोड़ लाइन्स में मौजूद जोग माया मंदिर में घुसा. इसने हथौड़े से मां दुर्गा की प्रतिमा को तोड़ दिया. मंदिर के दूसरे हिस्से में भी तोड़फोड़ की गई.

यह भी पढ़ें| राजधानी में 24 घंटों में 2 किन्नरों की संदिग्ध मौत, गुस्साये किन्नरों ने किया हंगामा

हमले के बाद यह शख्स वहां से भाग जाना चाहता था, लेकिन स्थानीय हिंदू समुदाय को घटना की जानकारी मिल गई और वहां काफी लोग जमा हो गए. इन लोगों ने इस शख्स को पकड़ लिया. बाद में उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया.

22 महीने में हिंदू मंदिरों पर 9वां हमला

पाकिस्तान की पत्रकार वीनगास ने भी घटना का वीडियो शेयर किया है. उन्होंने कहा कि 22 महीने में हिंदू मंदिरों पर होने वाला यह 9वां हमला है. वीनगास ने कहा- हमारा सुप्रीम कोर्ट भी सरकार को यह आदेश दे चुका है कि वो हिंदू मंदिरों को सुरक्षा दी जानी चाहिए और उन पर हमले बंद होने चाहिए. इसके बावजूद सरकार कोई कदम उठाने को तैयार नहीं है. इसकी वजह यह है कि दोषियों को कोई सजा नहीं दी जाती.

भाजपा नेता ने कार्रवाई की मांग की

भारतीय जनता पार्टी के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने घटना की निंदा की है. सोशल मीडिया पर किए गए पोस्ट में सिरसा ने इस घटना से संबंधित वीडियो भी शेयर किया है. सिरसा ने कहा- यह सत्ता के इशारे पर फैलाया जा रहा आतंकवाद है. सिरसा ने विदेश मंत्री एस जयशंकर को टैग करते हुए इस मामले पर एक्शन लेने की अपील की.

जन्माष्टमी पर भी तोड़ा था मंदिर

सितंबर में जन्माष्टमी के पावन दिन पर भी हिंदू समुदाय की भावनाएं आहत की गईं थीं. तब सिंध प्रांत के ही संघार जिले के खिर्पो इलाके में मंदिर में तोड़फोड़ की गई. यह मंदिर भगवान कृष्ण का था. इसमें रखी मूर्तियों को तोड़ दिया गया और वहां मौजूद हिंदुओं से मारपीट और बदसलूकी की गई थी. तब सिंध में हुई घटना की जानकारी पाकिस्तान के ह्यूमन राइट एक्टिविस्ट राहत आस्टिन ने भी सोशल मीडिया पर दी थी. उन्होंने कहा था- मंदिर पर हमला इसलिए किया गया क्योंकि यहां हिंदू समुदाय धूमधाम से भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाने जुटा था.

(इनपुट – डीबी)