Big Newsफीचरलाइफस्टाइल

मिसेज बिहार 2023 का खिताब सहरसा की डॉ रोहिणी को

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| मिसेज बिहार 2023 (Mrs. Bihar 2023) का ग्रैंड फिनाले सहरसा की डॉ रोहिणी ने जीत लिया है. राजधानी पटना के पाटलीपुत्र स्थित द औरम (The Aurum, Patliputra, Patna) में आयोजित मिसेज बिहार 2023 व्यूटी कॉन्टेस्ट के ग्रैंड फिनाले (Grand Finale of Mrs. Bihar 2023 Beauty Contest) में द्वितीय स्थान पर स्वर्णा व तृतीय स्थान पर शिखा रहीं. ग्रैंड फिनाले विजेता को जन अधिकार पार्टी (JAP) के एक नेता द्वारा 50000 की प्रोत्साहन राशि दी गई.

इससे पहले इस ग्रैंड फिनाले कार्यक्रम का उद्घाटन आईपीएस विकास वैभव (Vikas Vaibhav, IPS) , प्रसिद्ध गायिका कल्पना पटवारी (Kalpana Patwari, singer) व आयोजक प्रवीण सिन्हा ने किया. उद्घाटन के बाद कार्यक्रम की शुरुआत गणेश वंदना से हुई. ज्यूरी मेम्बर में मिसेज इंडिया मोनिका मनी, प्रसिद्ध गायिका कल्पना, फ़िल्म निर्माता फरीद मल्लिक व अमित कुमार थे.

ओशियन इंटरटेनमेंट (Ocean Entertainment) द्वारा आयोजित मिसेज बिहार -2023 (सौंदर्य स्पर्धा) के ऑडिशन के दो राउन्ड हुए जिसमें 300 महिलाओं ने आवेदन दिया था. लेकिन मात्र 14 महिलाएं ही फाइनल राउंड तक पहुंच पाई थी. फाइनल में पहुंचने वालों के नाम थे – सहरसा की डॉ रोहिणी, पटना से सोनिया गुप्ता, शिखा सिंह, कुसुमलता कुमारी, बैंक कर्मचारी अणिमा रानी, स्वर्ण सूची कुमारी, रमामणि, स्वाति प्रिया, रूपा कुमारी सोमिका, मुजफरपुर से मधु सिंह, पिंकी रंजन, सोनिया गुप्ता और शिवान्या.

फाइनल जीतने के लिए सभी 14 फ़ैनलिस्टों को अलग-अलग राउंड से गुजरना पड़ा. रेट्रो, कॉकटेल, इंडियन व प्रश्न व उत्तर राउंड से होते हुए सभी प्रतिभागियों ने अपने बेहतरीन आई क्यू का परिचय दिया. आत्मविश्वास से लबालब तमाम फाइनलिस्ट ने बेहतरीन परफॉर्म किया. तमाम फाइनलिस्ट ने बॉलीवुड सेलेब्रिटीज़ व सैकड़ों दर्शको के सामने रैंप वॉक किया. अलग अलग राउंड में महिलाओं ने अपनी भावनाओं को साझा किया, जिसमें प्रतिभागियों के उत्साह और कौशल ने सभी को हैरान कर दिया.

इस वर्ष का आयोजन स्टॉप वॉयलेंस अगेंस्ट वीमेन (Stop Violence against Women) के थीम पर आयोजित था. ओशियन एंटरटैनमेंट के एमडी प्रवीण सिन्हा ने बताया कि इस कॉन्टेस्ट के विनर को बिहार भर में नारी के उत्थान के लिए एक ब्रांड अम्बेसडर के रूप में विभिन्न गतिविधियों में शामिल कर गांव समाज में सैनेटरी पैड वितरण और इस विषय में गांव-गांव जाकर महिलाओं को जागरूक करने का लक्ष्य है. यह कदम महिला सशक्तिकरण (Women Empowerment) की तरफ उठाया जाने वाला एक बड़ा कदम होगा. इसकी शुरुआत पटना से की गई है. बता दें, पटना के गांवों में ग्रामीण महिलाओं के बीच सेनिटरी पेड का वितरण व अवेयरनेस कार्यक्रम की चलाया गया जा चुका है.