सुशांत की मौत पर मुंबई पुलिस के बड़े खुलासे – गूगल पर दर्दहीन मौत सर्च करते थे सुशांत

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | मुंबई और बिहार पुलिस में चल रहे टकराव के बीच मुंबई के पुलिस कमिश्नर परबीर सिंह ने सोमवार को इस केस की जांच से जुड़ी जानकारी देते हुए कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं. मुंबई पुलिस को जांच में पता चला है कि सुशांत आत्महत्या से पहले गूगल पर दर्दहीन मौत के बारे में सर्च किया करते थे.

सुशांत की गूगल हिस्ट्री में बायपोलर, खुद का नाम और बिना दर्द के मौत जैसे शब्दों को सर्च किया गया था. कमिश्नर ने बताया कि इस मामले में मनोवैज्ञानिक से बात की गई है, अब तक 56 लोगों के बयान लिए जा चुके हैं.

आत्महत्या और हत्या के बीच ​घिरे इस मामले में हर दिन अब नए-नए तथ्य सामने आने लगे हैं. मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने कहा कि अब तक ऐसा दिख रहा है कि ये पैसे रिया को डायरेक्टली ट्रांसफर नहीं हुआ है. सुशांत के खातों की जांच और उनके सीए से पूछताछ में अब तक पता चला है कि उनके अकाउंट में कुल तकरीबन 18 करोड़ रुपये थे जिसमें से चार, साढ़े चार करोड़ रुपए अभी भी उनके अकाउंट में एफडी वगैरह में हैं. बाकी के 13-13.5 करोड़ रुपए जो खर्च हुए हैं, उसकी जांच चल रही है.

बता दें कि हाल ही में सुशांत के पिता ने रिया चक्रवर्ती के खिलाफ धोखाधड़ी और आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया है. इस पर पुलिस कमिश्नर ने बताया कि जांच के दौरान 16 जून को सुशांत के परिवार वालों का बयान दर्ज किया गया था. उस वक्त किसी को भी कोई शक नहीं था. सुशांत के पिता ने पुलिस को जो बयान दिया था वो हमारे पास अभी भी मौजूद है.

बिहार पुलिस के अधिकारी को क्वारंटीन करने के सवाल पर परमबीर सिंह ने कहा कि ये अधिकार हमारे पास नहीं है, किसी को क्वारंटीन करने का अधिकार बीएमसी रखती है.

साथ ही पुलिस कमिश्नर ने बिहार पुलिस की जांच पर सवाल उठाते हुए कहा, “बिहार पुलिस को इस मामले की जांच करने का अधिकार नहीं है. गुनाह अगर आपके क्षेत्राधिकार से बाहर का है तो हमारी जानकारी के मुताबिक जीरो एफआईआर दर्ज करके केस ट्रांसफर किया जाता है. हमारे हिसाब से यही प्रक्रिया है. बिहार पुलिस ने हमसे दस्तावेज मांगे हैं, इस पर हमने कानूनी सलाह मांगी है”.

Advertisements