सुशांत सिंह राजपूत मामले की नहीं होगी CBI जांच, महाराष्ट्र सरकार

Patna (TBN – The Bihar Now डेस्क) | अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले की जांच सीबीआई को नहीं सौंपी जाएगी. महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने यह स्पष्ट कर दिया है. गृहमंत्री ने यह फैसला मुंबई के पुलिस आयुक्त सहित अन्य उच्च अधिकारियों के साथ बैठक के बाद किया. वहीं मंगलवार को मुंबई पहुंची बिहार पुलिस की टीम ने भी आज क्राइम ब्रांच के डीसीपी से मुलाकात कर इस मामले की जानकारी हासिल की.

गृहमंत्री देशमुख 17 जुलाई को ही एक बार स्पष्ट कर चुके थे कि सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या की जांच मुंबई पुलिस ही करेगी. लेकिन महाराष्ट्र सरकार पर मामला सीबीआई को सौंपने का दबाव बना रहा था. यहां तक की सुशांत की महिला मित्र रिया चक्रवर्ती ने भी एक बार ट्वीट कर लिखा था कि मैं हाथ जोड़कर प्रार्थना करती हूं कि इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपी जाए. ताकि यह पता चल सके कि किन दबावों के तहत सुशांत ने आत्महत्या जैसा कदम उठाया.

अब सुशांत के पिता के.के.सिंह द्वारा पटना में प्राथमिकी दर्ज करवाकर सीधे रिया चक्रवर्ती पर ही आरोप लगाने के बाद जब बिहार पुलिस मंगलवार को जांच करने मुंबई पहुंची, तो महाराष्ट्र सरकार पर एक बार फिर यह मामला सीबीआई को सौंपने का दबाव बनने लगा. जिसके फलस्वरूप आज गृहमंत्री ने मुंबई के पुलिस आयुक्त सहित सुशांत सिंह राजपूत मामले की जांच से जुड़े अन्य अधिकारियों के साथ बैठक कर जानकारी ली और निर्णय किया कि मामले की जांच सीबीआई को नहीं सौंपी जाएगी.

उधर मंगलवार को मुंबई पहुंची बिहार पुलिस की चार सदस्यीय टीम ने आज क्राइम ब्रांच के डीसीपी अकबर पठान से मुलाकात कर अब तक मुंबई पुलिस द्वारा की गई जांच की जानकारी ली. लेकिन बिहार पुलिस ने वहां मौजूद मीडिया को अपनी जांच से संबंधित कोई जानकारी देने से इंकार कर दिया है. बिहार पुलिस द्वारा इस मामले में दर्ज प्राथमिकी में सुशांत के परिवार के शक की सुई रिया चक्रवर्ती की ओर से ही है. लेकिन बिहार पुलिस कल से आज तक रिया से भी मिलने में असफल रही.

आपको बता दें कि इस बीच रिया ने भी सर्वोच्च न्यायालय से अपील की है कि इस मामले की जांच मुंबई पुलिस को ही करने दी जाए. जबकि रिया खुद पहले सीबीआई जांच की मांग उठा चुकी हैं। बता दें कि मुंबई पुलिस ने सुशांत की आत्महत्या के बाद आत्महत्या का सामान्य मामला दर्ज कर अब तक अपनी जांच को आगे बढ़ाती रही है. मुंबई पुलिस अब तक बिना किसी के विरुद्ध कोई प्राथमिकी दर्ज किए ही फिल्म इंडस्ट्री के विभिन्न प्रोडक्शन हाउसों से जुड़े लोगों को बुला-बुलाकर पूछताछ करती रही है.

जबकि बिहार पुलिस द्वारा सीधे रिया चक्रवर्ती के विरुद्ध दर्ज प्राथमिकी में आत्महत्या के लिए उकसाने, धोखा देने और संपत्ति हड़पने जैसे मामलों में प्राथमिकी दर्ज किया है. सुशांत के पारिवारिक वकील विकास सिंह ने तो यह आरोप भी लगाया है कि मुंबई पुलिस अब तक की जांच में विभिन्न प्रोडक्शन हाउसों को बुलाकर सिर्फ मामले को दूसरी दिशा में भटकाने की कोशिश कर रही है. हालांकि अभी बिहार पुलिस ने खुलकर कोई बयान नहीं दिया है. लेकिन महाराष्ट्र सरकार द्वारा आज किए गए फैसले से स्पष्ट है कि भविष्य में दो राज्यों की पुलिस इस मामले की जांच करेगी तो दोनों के बीच टकराव बढ़ने की संभावना है. ऐसे में संभव है कि बिहार सरकार को ही यह मामला सीबीआई को सौंपने पर बाध्य होना पड़ेगा.

Advertisements