जल्द होगी पुलिस में महिलाओं की 35 प्रतिशत हिस्सेदारी – नीतीश

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा है कि बिहार पुलिस में जल्द ही महिलाओं की भागीदारी 35% हो जाएगी. यह बात उन्होंने शुक्रवार को पुलिस सप्ताह (Police Week) के अवसर पर पटना स्थित बीएमपी-5 के मिथिलेश स्टेडियम में कही.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने महिलाओं को 35% आरक्षण दे दिया है और आज बिहार पुलिस में महिलाओं की संख्या 23% हो गई है जो अगले 3-4 वर्षों में 30-35% तक पहुंच जाएगी. उन्होंने कहा कि देश में शायद ही कोई ऐसा राज्य हो, जहां इतनी संख्या में महिलाएं पुलिस बल में होंगी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि आत्मनिर्भर बिहार के सात निश्चय पार्ट-2 के अंतर्गत सभी सरकारी कार्यालयों में महिलाकर्मियों की पर्याप्त संख्या करने को कहा गया है, ताकि वहां किसी भी काम से आने वाली महिलाओं का आत्मविश्वास बना रहे. लोगों की सुरक्षा के साथ समाज में शांति व्यवस्था बनाए रखने में पुलिस की महत्वपूर्ण भूमिका है.

उन्होंने आगे कहा कि सरकार ने पुलिस की सुविधाओं और जरूरतों को ध्यान में रखा है. सिर्फ सेवानिवृति को भरने का काम नहीं किया गया बल्कि पिछले 15 वर्षों में 50 हजार से अधिक नियुक्तियां हुईं. 10 हजार से अधिक बहाली प्रक्रियाधीन है. हर जिले में महिला और अनुसूचित जाति एवं जनजाति थाना खोला गया.

शराब का धंधा करने वालों को नहीं छोड़ा जाएगा

मुख्यमंत्री ने कहा कि शराबबंदी में मेरा कोई स्वार्थ नहीं है, यह लोगों के हित में है. हम इसे छोड़ने वाले नहीं हैं, कोई ढिलाई नहीं होगी. उन्होंने कहा कि शराब के मामले में कोई नजदीक वाला आदमी भी गड़बड़ी करता है तो उसे सीधे अंदर कर दीजिए.

आप यह भी पढ़ें अंबानी को धमकी भरी चिट्ठी – ‘मुकेश भाई, संभल जाना, ये तो बस ट्रेलर’

उन्होंने इशारों में विपक्ष पर भी निशाना साधा. सीएम ने कहा कि कुछ लोग बड़ा ज्ञानी समझते हैं पर लिखते हैं तो गड़बड़. महात्मा गांधी के सात सामाजिक पापकर्म गिनाते हुए कहा कि जबतक धरती है बापू के विचार जिंदा रहेंगे.

सीएम नीतीश ने पुलिस अधिकारियों को कहा कि शराब का धंधा करने वालों के पीछे गोपनीय ढंग से नजर रखें. लोगों को लगा दीजिए, शराब कहां रख रहा है और कहां भेज रहा है, सब पता कीजिए.

आप यह भी पढ़ें शराबबंदी पर बीजेपी एमएलसी के बयान ने बढ़ाई नीतीश सरकार की टेंशन

उन्होंने बताया कि असम, पंजाब और हरियाणा से भी धंधेबाज पकड़े जा रहे हैं और कार्रवाई हो रही है.

नीतीश ने कहा कि शराबबंदी के बाद अप्रैल 2016 से जनवरी 2021 तक 255111 एफआईआर दर्ज किए गए, 51.7 लाख लीटर देसी और 94.9 लाख लीटर विदेशी शराब बरामद की गई. 339401 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया और 470 को सजा हुई. शराबबंदी को लागू करने में शिथिलता बरतनेवालों के खिलाफ कार्रवाई हो रही है. पुलिस और मद्यनिषेध के 619 कर्मियों पर विभागीय कार्यवाही हुई, 348 पर एफआईआर, 186 बार्खास्त हुए और 60 पुलिस अफसर थानेदारी से वंचित किए गए हैं.
(इनपुट – हिंदुस्तान)