900 साल के महायोगी

दिल्ली/पटना (TBN रिपोर्टर)| क्या कोई व्यक्ति 900 साल तक जीवित रह सकता है. यह बात सुनने में शायद अजीब लगे और हो सकता है लोग इस बात पर आसानी से विश्वास भी ना करें परन्तु ये सत्य है.
हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसे महायोगी के बारे में जिनकी बहुत सी कहानियां प्रचलित हैं. भारत के उत्तर प्रदेश के देवरिया जनपद में महायोगी ‘देवरहा बाबा’ निवास करते थे.
सबसे बड़ा चर्चा का विषय बाबा की आयु को लेकर था लोगों में बाबा की आयु को जानने के लिए उत्सुकता बनी रहती थी और वैज्ञानिकों ने बाबा की सफल दीर्घ आयु पर विभिन्न शोध किए थे. सभी बाबा की जन्मतिथि से अज्ञान थे. सभी के अलग-अलग मत थे. कुछ लोगों का मानना था कि बाबा ने वर्षों तक हिमालय में तपस्या की और अज्ञात वर्षों तक तपस्या करने के बाद बाबा ने देवरिया में धरती से 12 फुट उंचे लकड़ी से बने मचान को ही अपना निवास स्थान बना लिया था. बाबा निर्वस्त्र रहते थे. सुबह के समय स्नान करने के लिए ही मचान से नीचे उतरते थे.
लोगों को लगता था बाबा लंबी आयु के लिए पौष्टिक आहार लेते होंगे पर बाबा ने जीवन भर अन्न ग्रहण नहीं किया था उनको दूध, शहद और श्रीफल का रस बेहद पसंद था.
बाबा का सबसे बड़ा चमत्कार तब देखने को मिलता था जब बाबा खाली मचान से हवा में हाथ करते और फल, मिठाइयां या खाने की विभिन्न चीजें बाबा के हाथ में आ जाती थी.
देवरहा बाबा संत पुरुष एवं सिद्ध महापुरुष होने के साथ साथ अलौकिक चमत्कारी शक्तिओं के भी स्वामी थे उनकी ख्याति विश्व भर में थी. देवरहा बाबा के दर्शन करने के लिए सम्पूर्ण विश्व से लोग आया करते थे.
देवरहा बाबा की चमत्कारी शक्तियों में कुछ अलग सा ही आकर्षण था. देश की कई नामी हस्तियां भी बाबा के भक्त बन गए थे अटल बिहारी वाजपेयी, लालू प्रसाद यादव, मुलायम सिंह यादव, राजेंद्र प्रसाद, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और कमलापति त्रिपाठी जैसे बड़े बड़े राजनेता देवरहा बाबा के दर्शन करने आते थे.
बाबा के जन्म का प्रमाण और आयु का सही आंकलन आज भी एक रहस्य है बाबा ने 19 मई सन् 1990 को योगिनी एकादशी के दिन अपनी अंतिम सांस ली थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.