कोरोना के नए वेरिएंट Omicron पर WHO ने जारी की चेतावनी

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) ने कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन (Omicron, new variant of covid-19) के खतरे को भांपते हुए शनिवार को चेतावनी दी है. WHO ने कहा है कि दक्षिण पूर्व एशियाई देशों (South East Asian Countries should be on high alert) को काफी सतर्क रहना चाहिए.

डब्ल्यूएचओ (WHO) ने कहा है कि इन देशों को स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों को मजबूत करना चाहिए और टीकाकरण को बढ़ाना होगा. डब्ल्यूएचओ के अनुसार वायरस का नया वेरिएंट, ओमीक्रॉन (Omicron) बहुत ज्यादा खतरनाक और संक्रामक है इसलिए इससे बचने के लिए हमे पहले से तैयार रहना बहुत जरूरी है.

डब्ल्यूएचओ के दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्र के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. पूनम खेत्रपाल सिंह (Dr. Poonam Khetrapal Singh, Regional Director of WHO’s South East Asia Region) ने कहा कि इन एशियाई देशों को अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर सावधानी बरतने की जरुरत है क्योंकि इससे यात्रियों के जरिए कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन के बढ़ने की संभावना है.

उन्होंने कहा, “हालांकि हमारे क्षेत्र के अधिकांश देशों में कोरोना मामलों में गिरावट आ रही है, दुनिया में कहीं और मामलों में वृद्धि और चिंता के एक नए संस्करण की पुष्टि जरूर करता है. इसलिए हमें कोरोना वायरस के खिलाफ अपना काम जारी रखने की आवश्यकता है. वायरस से बचाव और इसके प्रसार को रोकने के लिए यह सबसे अच्छा और प्रभावी तरीका है.”

यह भी पढ़ें| COVID-19: नए वैरिएंट ने बजाई खतरे की घंटी, केंद्र ने सभी राज्यों को किया अलर्ट

डॉ. पूनम खेत्रपाल सिंह ने जोर देकर कहा कि हमें कोरोना वैक्सीन की ताकत को किसी भी कीमत पर नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. उन्होंने कहा कि देशों की सरकारों को अपने स्तर निगरानी और टेस्ट को बढ़ाना चाहिए.

डेल्टा और डेल्टा प्लस वेरिएंट से ज्यादा खतरनाक

इस नए वेरिएंट ओमीक्रॉन के शुरुआती लक्षणों से पता चला है कि यह वायरस के डेल्टा और डेल्टा प्लस वेरिएंट से ज्यादा खतरनाक है. इसी कारण वैश्विक स्वास्थ्य निकाय ने कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को बेहद अधिक संक्रामक श्रेणी में रखा है.

सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क बहुत जरूरी

डॉ खेत्रपाल सिंह ने कहा कि लोगों को साही ढंग से मास्क पहनना और सुरक्षित दूरी बनाए रखना चाहिए. कम हवादार या भीड़-भाड़ वाली जगहों में जाने से बचना चाहिए. अपने हाथों को साफ रखना चाहिए, खांसी और छींक होने पर मुंह ढंकना चाहिए और कोरोनावायरस के जोखिम को कम करने के लिए टीका जरूर लगवाना चाहिए.

क्षेत्रीय निदेशक डॉ खेत्रपाल ने कहा कि हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि महामारी खत्म नहीं हुई है. साथ ही, लॉकडाउन खत्म होने की दशा में हमें निश्चिंत नहीं हो जाना चाहिए. भीड़ और बड़ी सभाओं से बचते हुए उत्सवों और समारोहों में सभी एहतियाती कदम उठाने चाहिए.

बताते चलें, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान, कनाडा ईरान, थाईलैंड, यूरोपीय संघ और यूनाइटेड किंगडम सहित कई देशों ने ओमीक्रॉन वायरस से बचने के लिए दक्षिणी अफ्रीकी देशों पर अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया है.