आज राष्‍ट्रीय लोक अदालत, बाढ़ सिविल कोर्ट में एडीजे आरके राजपूत ने किया उद्घाटन

बाढ़ (TBN – अखिलेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट)| शनिवार को व्यवहार न्यायालय, बाढ़ में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया. इसका उद्घाटन एडीजे राजकुमार राजपूत ने किया. इस अदालत का कार्यक्रम सुबह साढ़े दस बजे शुरू हुआ.

व्यवहार न्यायालय, बाढ़ में राष्ट्रीय लोक अदालत को लेकर विशेष तैयारी की गई थी. कोर्ट बिल्डिंग के कांफ्रेंस हाल में बड़ी संख्‍या में लोग मौजूद थे. राष्ट्रीय लोक अदालत के इस मौके पर सुलह योग्य मामले, उत्पाद, चेक बाउंस, वन विभाग, बिजली बकाया, ट्रैफिक चालान, भूमि अधिग्रहण, मोटरयान, वैवाहिक विवाद (तलाक छोड़कर) एवं श्रम से संबंधित मामलों की सुनवाई हुई. इन मामलों के लिए कई पीठों का गठन किया गया था.

इस आयोजन का उद्घाटन करते हुए एडीजे राजकुमार राजपूत ने कहा कि लोक अदालतों के जरिए केसों का जल्द समाधान मिलता है क्योंकि इसमें केस के दोनों पक्ष परस्पर समझौता कर लेते हैं जिससे जल्द फैसला मिलता है. लोक अदालतों के कारण भारतीय न्यायालयों में लंबित मामलों की संख्या कम होती हैं.

मौके पर उपस्थित तालूका सचिव सह एसीजेएम मिथिलेश कुमार ने कहा कि राष्ट्रीय लोक अदालत से पक्षकारों में आपसी सद्भाव कायम रहता है. साथ ही, लोक अदालत में निष्पादित मुकदमों की अपील नहीं होती है. लोक अदालत कार्यक्रम का संचालन न्यायिक दंडाधिकारी केपी आर्या ने किया.

राष्ट्रीय लोक अदालत के उद्घाटन के मौके पर प्रशिक्षु न्यायिक दंडाधिकारी सुरभि सहाय ने न्यायिक पदाधिकारियों को बुके देकर उनका स्वागत किया. वहीं उद्घाटन के मौके पर एडीजे-4 शत्रुघ्न सिंह, एडीजे-5 रवि रंजन मिश्रा, मुंसिफ रंजन देव आदि मौजूद थे.