अस्पताल बना वरदान

 

रायपुर/नई दिल्ली (TBN रिपोर्टर) | दिल में छेद या दिल की गंभीर बीमारी के बारे में सोचकर भी हम घबरा जाते हैं. दिल के ऑपरेशन का खर्चा लगभग 5 से 10 लाख या उससे भी ज्यादा आता है. अब सोचिये उस परिवार के बारे में जिनके नन्हे बच्चे के दिल में छेद या दिल की गंभीर बीमारी है और आर्थिक स्थिति भी अच्छी नहीं है. ऐसे हालात में अगर कोई अस्पताल ऐसा हो जो बिना पैसे लिए मुफ्त में बच्चे के दिल का ऑपरेशन कर दे, दवा भी मुफ्त और सारा इलाज भी फ्री हो.
हम बात कर रहे हैं छत्तीसगढ़ के रायपुर में स्थित “श्री सत्य साई संजीवनी अस्पताल” की. यह अस्पताल लगभग 30 एकड़ में फैला हैं और इसको दिल के आकार में बनाया गया है. साफ सफाई और हाइजीन का यहाँ बहुत ख्याल रखा जाता है. अस्पताल में मरीज के परिवार के रुकने के लिए सुविधाएं भी उपलब्ध हैं. मरीज के इलाज का सारा खर्च ट्रस्ट उठाता है.
यहाँ पर इलाज कराने के लिए पडोसी मुल्क पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, और नाइजीरिया से लोग आते हैं.
अस्पताल में इलाज की प्रक्रिया-
सोमवार से शुक्रवार सुबह 8 बजे से पहले अस्पताल में पहुंचना  होता है. अस्पताल में एक्सपर्ट की टीम बच्चे का चेकअप करती है. बच्चे की हालात देखकर टीम तय करती है कि बच्चे का ऑपरेशन कब  करना है. अब तक यहाँ लगभग 3 से 4 हजार बच्चों का ऑपरेशन करके बच्चों को नई ज़िंदगी दी गयी है. वास्तव में ये अस्पताल वरदान ही साबित हो रहा है.