90 प्रतिशत रेल मार्ग विद्युतीकृत होने से प्रतिवर्ष 1500 करोड़ की बचत – उपमुख्यमंत्री

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | राज्य के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने प्रधानमंत्री द्वारा रेल की विभिन्न परियोजनओं के उद्घाटन कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा है कि बिहार में 3318 कि.मी. रेल मार्ग के 90 प्रतिशत का विद्युतीकरण हो चुका है जिससे डीजल तेल पर 1500 करोड़ प्रतिवर्ष की बचत सम्भावित है तथा इससे रेल की गति बढ़ेगी और पर्यावरण संरक्षण में भी मदद मिलेगी.

सुशील मोदी ने दरभंगा में एम्स (AIIMS) स्वीकृत करने तथा आर ब्लाक-दीघा की जमीन को रेलवे द्वारा बिहार सरकार को देने के लिए भी प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया.

उन्होंने ने कहा कि बिहार के प्रथम गणराज्य वैशाली तथा स्व0 रघुवंश बाबु की कर्म भूमि को रेल के मानचित्र पर जोड़ने तथा इस्लामपुर-नटेश्वर नई रेल लाइन के खुलने से बौद्ध एवं जैन धर्म से जुड़े कई प्राचीन स्थल रेल से जुड़ जाएँगे जिससे बिहार में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा.

मोदी ने आगे कहा कि पिछले 6 वर्षों में रेल ने बिहार में 774.08 कि.मी. गेज परिवर्तन, नई लाइन तथा डबलिंग पर 22,275 करोड़ खर्च किया है पूर्व मध्य रेलवे 2009-14 तक प्रतिवर्ष 1133 करोड़ खर्च करता था जो 2014-20 तक 201 प्रतिशत की वृद्वि करते हुए 3414 करोड़ प्रतिवर्ष बिहार में व्यय कर रहा है.

उन्होंने कहा कि बख्तियारपुर-बाढ़ के बीच तीसरी लाइन बनने से बाढ़ स्थित NTPC के बिजली घर को निर्वाध कोयले की आपूर्ति होती रहेगी जिससे बिहार को अनवरत बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित की जा सकेगी.

सुशील मोदी ने कहा कि भारत सरकार द्वारा गंगा पर मोकामा के पास एक और रेल पुल तथा भागलपुर में एक और पुल का निर्माण किया जा रहा है जिससे बिहार के विकास की गति और तेज होगी.

error: Content is protected !!