पीएम ने उद्योगपतियों से गांवों, छोटे शहरों में निवेश करने का किया आह्वान

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को उद्यमियों को गांवों और छोटे शहरों में निवेश करने का आह्वान करते हुए कहा कि 21 वीं सदी में भारत का विकास इन क्षेत्रों से होगा.

फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (FICCI) के 93 वें वार्षिक सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने ग्रामीण, अर्ध-ग्रामीण और टियर -2 और टियर -3 शहरों में हो रहे सकारात्मक बदलाव पर बड़े उद्योगपतियों से ऐसे क्षेत्रों में अवसरों का लाभ उठाने के लिए आमंत्रित किया.

“यह निश्चित है कि 21वीं सदी में भारत का विकास गांवों और छोटे शहरों द्वारा संचालित होगा और आप जैसे उद्यमियों को गांवों और छोटे शहरों में निवेश करने का अवसर नहीं खोना चाहिए. आपका निवेश ग्रामीण और कृषि क्षेत्रों के हमारे भाइयों और बहनों के लिए नए अवसर के दरवाजे खोलेगा” पीएम मोदी ने कहा.

उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की संख्या शहरों से आगे निकल गई है और भारत के आधे से अधिक स्टार्ट-अप टियर -2 और टियर -3 शहरों में हैं. हाल ही में सार्वजनिक वाई-फाई हॉटस्पॉट के लिए PM-WANI को दी गई मंजूरी पर प्रधानमंत्री ने कहा कि उद्यमियों को ग्रामीण कनेक्टिविटी प्रयासों में भागीदार बनना चाहिए.

प्रधानमंत्री ने भारतीय निजी क्षेत्र को न केवल घरेलू जरूरतों को पूरा करने के लिए बल्कि वैश्विक स्तर पर मजबूत ब्रांड ‘भारत’ की स्थापना करने के लिए भी सराहना की. उन्होंने कहा कि ‘आत्मनिर्भर भारत’ के प्रति प्रत्येक नागरिक की प्रतिबद्धता अपने निजी क्षेत्र में देश के विश्वास का एक उदाहरण है.

आपने ये पढ़ा क्या – भोजपुर के तीन गांवों में होंगे तरल अपशिष्ट उपचार तालाब

उन्होंने कहा कि एक दूरदर्शी और निर्णायक सरकार सभी हितधारकों (Stakeholders) को उनकी क्षमता का एहसास करने के लिए प्रोत्साहित करती है. पीएम मोदी ने कहा कि पिछले छह वर्षों में सरकार सभी क्षेत्रों में हितधारकों को प्रोत्साहित कर रही है. उन्होंने कहा, “यह क्षेत्र में एमएसएमई (MSME) के विनिर्माण, कृषि से लेकर बुनियादी ढाँचे तक, टेक उद्योग से लेकर टैक्सैशन और रियल एस्टेट से लेकर नियामकीय सहजता तक के क्षेत्रों में चौतरफा सुधारों में परिलक्षित होता है.”

मोदी ने वहां उपस्थित सभा को बताया कि हमारे उद्योग को पुलों की जरूरत है, दीवारों की नहीं. उन्होंने कहा, “अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों को अलग करने वाली दीवारों को हटाने से सभी के लिए नए अवसर प्राप्त होंगे, विशेषकर उन किसानों को, जिन्हें नए विकल्प मिलेंगे. प्रौद्योगिकी, कोल्ड स्टोरेज और कृषि क्षेत्र में निवेश से किसानों को लाभ होगा.”

पीएम मोदी ने कृषि, सेवा, विनिर्माण और सामाजिक क्षेत्रों को एक दूसरे का पूरक बनाने के तरीके खोजने में ऊर्जा निवेश करने का आह्वान किया. “फिक्की जैसा संगठन इस प्रयास में पुल और प्रेरणा (bridge and inspiration) दोनों हो सकता है. हमें स्थानीय मूल्य और आपूर्ति श्रृंखला को मजबूत करने के लिए एक लक्ष्य के साथ काम करना चाहिए और देखना चाहिए कि वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला (global supply chain) में भारत की भूमिका का विस्तार कैसे हो. भारत में बाजार, श्रमशक्ति (manpower) और मिशन मोड में काम करने की भी क्षमता है, ”उन्होंने कहा.

प्रधानमंत्री ने वित्तीय समावेशन (financial inclusion) की सफलता के लिए J-A-M (जनधन, आधार और मोबाइल) की योजनाबद्ध और एकीकृत दृष्टिकोण को सुधार का सबसे अच्छा उदाहरण बताया. उन्होंने किसानों और कृषि क्षेत्र की मदद के लिए कदम बढ़ाने पर भी जोर दिया. “नीति और इरादे (नीति और नियत) के माध्यम से सरकार किसानों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है,” उन्होंने कहा.

कृषि क्षेत्र की बढ़ती जीवंतता को देखते हुए, प्रधानमंत्री ने किसानों को मंडियों के बाहर अपनी उपज बेचने, मंडियों के आधुनिकीकरण और इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म पर उपज बेचने का विकल्प उपलब्ध कराने के लिए नए विकल्प की बात की. उन्होंने कहा कि यह किसान को समृद्ध बनाने के लिए ही बना है क्योंकि समृद्ध किसान का मतलब समृद्ध राष्ट्र है.

पीएम मोदी ने बताया कि कृषि क्षेत्र में निजी क्षेत्र का निवेश अभी उपयुक्त नहीं है. उन्होंने कहा कि आपूर्ति श्रृंखला, कोल्ड स्टोरेज और उर्वरक आदि जैसे क्षेत्रों में निजी क्षेत्र के हित और निवेश दोनों की जरूरत है. उन्होंने कहा कि ग्रामीण कृषि आधारित उद्योगों में बहुत बड़ी गुंजाइश है और इसके लिए एक अनुकूल नीति व्यवस्था है.

प्रधानमंत्री ने उद्योगपतियों और उद्यमियों को कोरोना (Covid -19) के झटके से उबरने में उनके योगदान की सराहना की. उन्होंने कहा कि देश ने महामारी के दौरान नागरिकों के जीवन को प्राथमिकता दी और इससे अच्छे परिणाम मिले. मोदी ने कहा कि हालात उसी तेजी से सुधरे हैं, जितने वे शुरू में खराब हुए थे.

error: Content is protected !!