अन्य राज्यों में फंसे बिहारियों तक राहत पहुंचायेंगे नीतीश

पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट) :- सम्पूर्ण लॉकडाउन के बाद से ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाहर के राज्यों में फंसे हुए बिहार के नागरिकों के लिए संबंधित राज्य सरकारों और स्थानीय प्रशासन से राहत मुहैया कराने का आग्रह किया था. इसके साथ ही संबंधित राज्य सरकारों और स्थानीय प्रशासन से कहा था कि “बिहार सरकार के खर्चे पर वहां रह रहे बिहारियों को भोजन और रहने की सुविधा दी जाए”.

बाहरी राज्यों से बड़ी संख्या में पलायन करते लोगों पर चिंता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक में अधिकारियों को यह निर्देश देते हुए कहा है कि “सभी राज्यों के लिए अलग-अलग नोडल ऑफिसर तैनात किए जाएं”. इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने रेजिडेंट कमिश्नर को भी निर्देश देते हुए कहा है कि “अन्य राज्यों में लॉक डाउन में फंसे बिहार के उन लोगों तक पहुंचाने का प्रयास किया जाए जो मुश्किलों का सामना कर रहे हैं”.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक में रेजिडेंट कमिश्नर को बाहरी राज्यों में फंसे हुए बिहार के नागरिकों को भोजन उनके रहने की व्यवस्था और चिकित्सा सुविधा को लेकर मॉनिटरिंग करने का निर्देश दिया है. मुख्यमंत्री के द्वारा आवश्यक कदम उठाते हुए  सभी राज्यों के लिए अलग-अलग नोडल ऑफिसर बनाने और उनके बीच कोआर्डिनेशन की जिम्मेदारी भी रेजिडेंट कमिश्नर को सौंपी गयी है.

नीतीश कुमार ने कहा है कि “कोरोना वायरस के संक्रमण से इस वक्‍त पूरी दुनिया संकट के दौर से गुजर रही है. ऐसे में हर भारतवासी का सजग और सतर्क रहना बेहद जरूरी है. महामारी का मुकाबला करने के लिए संकल्प और संयम बेहद जरूरी है. इस महामारी को रोकने के लिए एक नागरिक के नाते, अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए केंद्र और राज्य सरकारों की ओर से दिए जाने वाले दिशा निर्देशों का ध्यान रखते हुए लॉकडाउन का पालन करें. सरकार कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए हरआवश्यक कदम उठा रही है और इस मुश्किल घडी में हम सब एकजुट होकर निश्चय ही कोरोना को हराने में सफल होंगे”.