किसानों की सुविधा हेतु छोटी-छोटी नदियों को भी कनेक्ट करने की बनाएं योजना – नीतीश

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Niish Kumar Chief Minister) ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि छोटी-छोटी नदियों को कनेक्ट करने की योजना बनाएं जिससे जल संरक्षण हो सके और सिंचाई कार्य (Irrigation work) में किसानों को काफी सुविधा हो सके. वह बुधवार को 1 अणे मार्ग स्थित संकल्प (Sankalp, 1 Anne Marg) में आपदा प्रबंधन विभाग (Disaster Management Department) , जल संसाधन विभाग (Department of Water Resources) एवं कृषि विभाग (Agriculture Department) के साथ पिछले दो दिनों में वर्षा के कारण उत्पन्न स्थिति की समीक्षा कर रहे थे.

मुख्यमंत्री ने कहा कि जल संसाधन विभाग को दो भागों में बांटा गया है ताकि सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण का कार्य ठीक ढंग से किया जा सके. उन्होंने कहा कि सिंचाई कार्य को ठीक से देखने के साथ-साथ जल संसाधन विभाग बाढ़ से बचाव के स्थायी समाधान के लिए कार्य करे.

उन्होंने कहा कि जिन नदियों के किनारे तटबंधों का निर्माण बचा हुआ है उनका निर्माण कार्य जल्दी पूरा करें. नदियों की उड़ाही के लिए योजना बनाकर काम करें. साथ ही, छोटी-छोटी नदियों को भी कनेक्ट करने की योजना बनाएं ताकि जल संरक्षण हो सके और उससे सिंचाई कार्य में किसानों को काफी सुविधा हो सके.

यह भी पढ़ें| जालसाज हैं ये 5 सांसद, होनी चाहिए जांच – जीतन राम मांझी

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार की लगभग 74 प्रतिशत आबादी की आजीविका का आधार कृषि है. हमलोग कृषि के क्षेत्र में कई कार्य किए हैं, फसलों का उत्पादन और उत्पादकता बढ़ी है. अधिप्राप्ति का काम भी अच्छे से हो रहा है और लोगों की आमदनी बढ़ी है.

बाढ़ में राहत एवं बचाव कार्य पूरी मुस्तैदी के साथ किया गया

बैठक में नीतीश कुमार ने कहा कि पिछले 5-6 माह से लगातार बारिश हुई है जिसके कारण राज्य में चार चरणों में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हुई. बाढ़ के दौरान राहत एवं बचाव कार्य पूरी मुस्तैदी के साथ किया गया.

यह भी पढ़ें| राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द पहुंचे पटना, एयरपोर्ट पर हुआ भव्य स्वागत

उन्होंने कहा कि 15 अक्टूबर के पहले सभी जगह की रिपोर्ट लेकर हुई फसल क्षति का आकलन किया गया और उन्हें मुआवजा दिया जा रहा है. उन्होंने निर्देश दिया कि राज्य में पिछले दो-तीन दिनों में भी वर्षा के कारण जो फसल बर्बाद हुई है, उसका एक बार फिर से आकलन कर लें और यह ध्यान रहे कि कोई भी प्रभावित क्षेत्र छूटे नहीं. सभी गाँवों में हुयी फसल क्षति की जानकारी लें. उन्होंने कहा कि वर्ष 2007 से आपदा की स्थिति में लोगों को हर प्रकार से सहायता की जा रही है.

इससे पहले इस समीक्षा बैठक में जल संसाधन विभाग के सचिव संजीव हंस, कृषि विभाग के सचिव एन सरवन कुमार और आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव संजय कुमार अग्रवाल द्वारा अपने-अपने विभागों की अद्यतन स्थिति की जानकारी दी गई.

बैठक में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, जल संसाधन विभाग के सचिव संजीव हंस, कृषि विभाग के सचिव एन सरवन कुमार, आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव संजय कुमार अग्रवाल एवं मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार उपस्थित थे.