3 महीने तक राशन मिलेगा फ्री

पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट) | मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य में 21 दिन के लॉकडाउन को देखते हुए राज्य के सभी उच्चस्तरीय अधिकारियों को आम जनता की राशन और खाद्य सामिग्री की कमी जैसी समस्याओं से निपटने के लिए निर्देश जारी किये. जिसके तहत बिहार के खाद्य आपूर्ति विभाग ने अगले महीने से लगातार 3 महीने तक (अप्रैल से जून 2020) तक राशन कार्डधारियों को एक महीने के बराबर मुफ्त राशन देने का फैसला किया है.

गरीबों को लॉकडाउन के दौरान खाने के सामान की परेशानी न उठानी पड़े इसको देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आदेश अनुसार शुक्रवार को केंद्रीय खाद्य एवं आपूर्ति सचिव, संयुुक्त सचिव, एफसीआइ के कार्यकारी निदेशक व अन्य अधिकारियों ने बिहार के खाद्य आपूर्ति विभाग के सचिव पंकज कुमार पाल के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग कर इस बाबत हो रही व्यवस्थाओं की जानकारी दी.

बिहार के खाद्य आपूर्ति विभाग के सचिव पंकज कुमार पाल ने कहा कि “राशन कार्डधारियों को एक किलो अरहर या फिर मसूर की दाल भी मुफ्त मिलनी है. नेफेड के माध्यम से इसका उठाव होना है. यह देखा जा रहा है कि नेफेड के किस गोदाम से दाल के उठाव में सहूलियत होगी. इसके हिसाब से उन्हें लिखा जाएगा. इसके साथ ही सरकार के फैसले के अनुसार राशन कार्डधारियों को एक साथ दो माह का राशन मिलेगा. जबकि, एक माह के राशन का पैसा देना होगा और साथ में एक माह का राशन मुफ्त मिलेगा. यह केंद्र सरकार के पैकेज के तहत होना है. इसके अतिरिक्त राज्य सरकार के राहत पैकेेज के तहत एक महीने का जो मुफ्त राशन मिलना है वह भी अप्रैल में उपलब्ध हो जाएगा”.

सचिव पंकज कुमार पाल ने बताया कि “एक महीने के राशन के लिए 10 लाख मीट्रिक टन अनाज का उठाव कर उसे सभी जन आपूर्ति की दुकानों (पीडीएस) तक पहुंचाना है. इसके अतिरिक्त राहत पैकेज वाले अनाज की मात्रा अलग से है. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि “बिहार में खाद्यान्न लेकर आ रहे ट्रक राजस्थान, मध्य प्रदेश, हरियाणा और दिल्ली में फंसे हैं. संबंधित राज्यों के अधिकारियों को इस बारे में निर्देश दिया गया है. एक-दो दिनों में ट्रक पहुंच जाएंगे”. आगे उन्होंने कहा कि  “दूध की आपूर्ति को लेकर किसी तरह की परेशानी नहीं हो, इस बात को केंद्र में रख कांफेड को कहा गया है कि वह दूध की घर-घर डिलेवरी की व्यवस्था सुनिश्चत कराए. लॉकडाउन की अवधि तक यह व्यवस्था जरूरी है”.