हमारे शरीर में लिवर के कार्य – विस्तार से!!!

पटना (एडिटर की कलम से) | हम सभी जानते हैं कि लिवर हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है और यह कई कार्य करता है. और हम सिर्फ यह जान कर संतुष्ट रहते हैं कि हमारा लिवर काम कर रहा है. लेकिन यह जानना महत्वपूर्ण है कि लिवर क्या करता है ताकि हम इस अद्भुत अंग की अधिक सराहना कर सकें और इसकी बेहतर देखभाल कर सकें. इसके लिए हमें लिवर के कार्यों को सही ढंग से समझना होगा –

लिवर हमारे शरीर को ईंधन देता है – जब हम अनाज, स्टार्चयुक्त सब्जियां जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं, तो हमारे शरीर में कार्बोहाइड्रेट प्रवेश करते हैं. कार्बोहाइड्रेट ऊर्जा के मुख्य स्रोत हैं. लेकिन वे हमारे शरीर को उस रूप में उपयोग करने के लिए नहीं होते हैं जब उन्हें हम लेते हैं हैं. लिवर इन कार्बोहाइड्रेट को तोड़ने में सक्षम है और उन्हें ग्लूकोज- एक प्रकार की चीनी में परिवर्तित करता है और जो ग्लाइकोजन के रूप में लिवर में संग्रहीत होते हैं. यह ग्लूकोज हमारी प्रत्येक कोशिका को शक्ति प्रदान करता है और उनकी नियमित गतिविधियों में मदद करता है. यदि हमारी ऊर्जा का स्तर गिरता है या यदि हमारे रक्त शर्करा का स्तर कम है, तो हमारा लिवर हमारे रक्त में ग्लूकोज की बाढ़ जारी करता है.

साथ ही यह हमारे शर्करा के स्तर को स्थिर रखने में भी मदद कर सकता है. यदि हमारे लिवर को यह समझ में आता है कि हमारे शर्करा का स्तर ने भोजन से बढ़ गया है, तो यह अतिरिक्त चीनी को मोप अप करके इसे ग्लाइकोजन में बदल देता है.

यह हमारे रक्त को शुद्ध करता है – हमारे शरीर की प्राकृतिक विषहरण प्रणाली में 2 अंग शामिल होते हैं जिनमें से एक लिवर भी है. जब हमारा रक्त लिवर से निकलता है, तो यह हमारे रक्त से विषाक्त पदार्थ को अलग करता है और पित्त की मदद से, यह उन्हें मल के माध्यम से शरीर से बाहर निकाल देता है.

वसा का अवशोषण – हमारे लिवर को वसा को तोड़ने और आत्मसात करने जैसा मुश्किल काम करना पड़ता है. इस के लिए, हमारा लिवर पित्त पैदा करता है जो एक चिपचिपा पीला तरल पदार्थ है तथा जो वसा को तोड़ता है और हमारे रक्त को वसा को अवशोषित करने में मदद करता है. इस प्रकार ऊर्जा का उत्पादन होता है और हमारा मेटाबोलिज्म (चयापचय) सुचारू रूप से चलता रहता है.

प्रोटीन का आकलन – प्रोटीन अपने मूल रूप में हमारे शरीर के लिए अच्छा नहीं करता हैं. हमारा लिवर अमीनो एसिड को वसा में परिवर्तित करता है ताकि उनका उपयोग ऊर्जा बनाने के लिए किया जा सके. इस प्रक्रिया के दौरान अमोनिया का उत्पादन होता है जो बेहद जहरीला होता है. लेकिन हमारे लिवर का शुक्र है कि यह अमोनिया को यूरिया में परिवर्तित कर देता है. यूरिया एक ऐसा पदार्थ जो बहुत कम जहरीला होता है और जो किडनी के मार्फत हमारे शरीर से निकल जाती है.

कोलेस्ट्रॉल का उत्पादन – हम सभी सोचते हैं कि कोलेस्ट्रॉल खराब होता है. लेकिन हमारे शरीर को केवल एलडीएल से नुकसान पहुंच सकता है. हम सभी को कम मात्रा में कोलेस्ट्रॉल की आवश्यकता होती है जो हमारे लिवर द्वारा हमारी कोशिकाओं की संरचना और महत्वपूर्ण हार्मोन की पीढ़ी को बनाए रखने के लिए पैदा किया जाता है. सबसे अहम बात है कि कोलेस्ट्रॉल के बिना, हम विटामिन डी का उत्पादन नहीं कर पाएंगे जो हमें हमारी हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक है.

आयुर्वेद का जिगर के बारे में क्या कहना है?

आयुर्वेद के अनुसार, चूंकि लिवर हमारे पित्त का आसन है,  इसलिए पित्त में कोई भी असंतुलन लिवर की समस्याओं को बढ़ा देता है. इसलिए यह हमारे लिए सर्वोपरि है कि हम इस अंग की किसी भी बीमारी से बचने के लिए पित्त को स्थिर रखें. लेकिन यदि हम पहले से ही लीवर की बीमारी जैसे कि हेपेटाइटिस ए, हेपेटाइटिस बी, हेपेटाइटिस सी, ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस या लीवर के सिरोसिस जैसी बीमारियों से ग्रस्त हैं, तो आयुर्वेद हमारी मदद कर सकता है. इसके लिए किसी आयुर्वेदिक लिवर विशेषज्ञ से सुझाव लेना सही होता है.

हमारा लिवर अपूरणीय है. यह कई कार्य करता है और इसे हमसे केवल थोड़ा-सा प्यार चाहिए. एक स्वस्थ जीवन जीने के लिए हमें अपने लिवर का ख्याल रखना चाहिए. हालांकि लिवर की बीमारियों के इलाज और लीवर को स्वस्थ रखने के लिए आयुर्वेद में बहुत तरीके हैं, लेकिन किसी भी दवा या उपाय का चयन करने से पहले आयुर्वेदिक लिवर विशेषज्ञ से परामर्श करना हमेशा उचित होता है.