बाढ़ के लोगों को हम जीवन भर नहीं भूलेंगे – नीतीश

पटना / बाढ़ (TBN – अखिलेश्वर कु सिन्हा की रिपोर्ट)| मुख्यमंत्री (CM) नीतीश कुमार ने शनिवार को सीएम आवास के ‘संकल्प हॉल’ से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बाढ़ अनुमंडल नगर स्थित डाक बंगला परिसर में नवनिर्मित सामुदायिक भवन का उद्घाटन किया. इस अवसर पर उन्होंने कहा कि वे बाढ़ के लोगों को जीवन भर नहीं भूलेंगे.

साथ ही नीतीश ने अधिकारियों को बाढ़ में मौजूदा अनुमंडलीय अस्पताल के नवीनीकरण के लिए एक ठोस योजना तैयार करने को कहा.

नीतीश ने कहा, ‘मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना (Chief Minister Area Development Scheme) के तहत सामुदायिक भवन का निर्माण किया गया है. इसमें नौ सुसज्जित कमरे और एक किचन हॉल है. यहां सांस्कृतिक और शादी के कार्यक्रमों का आयोजन किया जा सकता है. यहां तक ​​कि यात्री रात में भी रुक सकते हैं.

सीएम ने कहा कि इसी डाक बंगला परिसर में एक बहुउद्देशीय सम्मेलन भवन भी बनाया जा रहा है. उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्माण कार्य जल्द से जल्द पूरा करने को कहा. “डाक बंगले के मौजूदा भवन का भी निरीक्षण करें. यदि आप पाते हैं कि इसे नए सिरे से बनाने की आवश्यकता है, तो कृपया इस दिशा में काम करें, ”नीतीश ने उद्घाटन समारोह में भाग लेने वाले अधिकारियों से कहा.

उन्होंने पटना के डीएम और स्वास्थ्य अधिकारियों को बाढ़ में अनुमंडलीय अस्पताल के जीर्णोद्धार की विस्तृत योजना तैयार करने के भी निर्देश दिए.

बाढ़, विशेष रूप से तत्कालीन बाढ़ संसदीय क्षेत्र के साथ अपने पुराने संबंध और “विशेष लगाव” को याद करते हुए, नीतीश ने कहा कि वह बाढ़ निर्वाचन क्षेत्र से पांच बार लोकसभा के लिए चुने गए और सांसद रहते हुए पहली बार बाढ़ सीट से केंद्रीय राज्य मंत्री बने.

मुख्यमंत्री ने कहा कि परिसीमन के कारण बाढ़ संसदीय क्षेत्र समाप्त होने से उन्हें काफी दुख हुआ था. यहां की जनता ने उन्हें विशेष प्यार और स्नेह दिया है.

आप यह भी पढ़ेंलालू ने दिया नारा – ‘बहुत हुई महंगाई की मार, कुर्सी छोड़ो निर्लज्ज सरकार’

उन्होंने कहा कि पूरे राज्य में पुल-पुलियों और सड़कों का निर्माण कराया गया है. बाढ़ में भी कई सड़कों और पुलों का निर्माण किया गया है. अब लोगों को पैदल चलना नहीं पड़ता है.

नीतीश ने यह भी याद किया कि निर्वाचन क्षेत्रों के परिसीमन की प्रक्रिया के दौरान बाढ़ संसदीय क्षेत्र को खत्म करने पर उन्हें कैसे दुख हुआ था.

प्रतिदिन 12 किमी पैदल चलता था

नीतीश ने कहा, “आप सभी जानते हैं कि बाढ़ क्षेत्र से मेरा विशेष लगाव है. बाढ़ से सांसद रहते हुए मैं हमेशा इस निर्वाचन क्षेत्र के लोगों के संपर्क में रहता था. मैं अपने निर्वाचन क्षेत्र में विभिन्न गांवों के लोगों से मिलने के लिए प्रतिदिन 12 किमी पैदल चलता था. एक दिन, मैं 16 किमी तक चला. बाढ़ निर्वाचन क्षेत्र के लोगों ने मुझे विशेष प्यार और स्नेह की पेशकश की, जिसे मैं भूल नहीं सकता”. नीतीश ने कहा कि केंद्रीय कैबिनेट मंत्री बनने के बाद भी वे निर्वाचन क्षेत्र में जाते रहते थे.

नीतीश ने यह भी याद किया कि कैसे उन्होंने हरनौत से विधायक बनने और बाद में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में कैबिनेट मंत्री बनने के बाद ‘ताल’ क्षेत्र के विकास के लिए काम किया. उन्होंने बाते कि केंद्र में मंत्री रहते हुए उन्होंने टाल क्षेत्र की समस्याओं के समाधान की शुरुआत कराई थी. बाद में टाल क्षेत्र के विकास को लेकर कई योजनाएं बनाई गई, जिस पर काम किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि हम देश में आबादी में तीसरे नंबर पर हैं जबकि क्षेत्रफल में 12 वें स्थान पर हैं. बड़ी आबादी होने के बावजूद कोरोना को नियंत्रित करने के लिए सभी जरूरी कदम उठाये गये हैं.

कोरोना की तीसरी लहर से रहें सतर्क एवं सचेत

उन्होंने कहा कि कोरोना के तीसरे फेज की संभावना जताई जा रही है. लोग इसको लेकर पूरी तरह से सतर्क एवं सचेत रहें. केंद्र सरकार के सहयोग से राज्य में टीकाकरण का कार्य तेजी से किया जा रहा है. कोरोना की जांच भी तेजी से की जा रही है. प्रतिदिन हमने 2 लाख कोरोना की जांच करने को कहा है. अधिक से अधिक कोरोना की जांच होने से जिन संक्रमितों का पता चलेगा, उनका इलाज ससमय हो पायेगा और इसके फैलाव को रोका जा सकेगा. उन्होंने कहा कि लोग मास्क का प्रयोग जरुर करें, आपस में दूरी बनाकर रखें और हाथ को धोते रहें. इससे कोरोना का फैलाव कम होगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि बाढ़ में विकास के कई कार्य किये गये हैं. कोरोना खत्म होने पर हम फिर से क्षेत्र में आयेंगे और जो भी कार्य किये गये हैं उनको देखेंगे. हमलोगों ने बाढ़ में शुरु से कई कार्य किये हैं. पहले क्या स्थिति थी और अब क्या स्थिति है इसकी जानकारी नई पीढ़ी को देने की जरुरत है. उन्होंने कहा कि बाढ़ के लोगों को हम जीवन भर नहीं भूलेंगे. मेरी प्रतिबद्धता आप सबों के प्रति हमेशा रहेगी. सभी लोग आपस में प्रेम और भाईचारे का भाव बनाये रखें.

इस कार्यक्रम को सांसद राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, विधान पार्षद नीरज कुमार, विधायक ज्ञानेन्द्र कुमार सिंह ज्ञानू एवं पूर्व विधान पार्षद रामचंद्र भारती ने भी संबोधित किया.

बाढ़ से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिला परिषद परामर्शी समिति की अध्यक्ष श्रीमती अंजू देवी, जिला परिषद परामर्शी समिति की उपाध्यक्ष श्रीमती ज्योति सोनी, मुख्य पार्षद नगर परिषद राजीव कुमार उर्फ चुन्ना जी, उप मुख्य पार्षद नगर परिषद परमानंद सिंह, जिला परिषद परामर्शी समिति के सदस्य विजय कुमार सिंह, जिला परिषद परामर्शी समिति की सदस्य श्रीमती सीता देवी, जदयू नेता शंकर सिंह, जिलाधिकारी चंद्रशेखर सिंह सहित अन्य पदाधिकारीगण एवं गणमान्य व्यक्ति जुड़े हुए थे.