स्टेशन एवं ट्रेनों में बेहतर स्वच्छता हेतु पूर्व मध्य रेल ने उठाये कई कदम

हाजीपुर (TBN – The Bihar Now डेस्क)| पूर्व मध्य रेल (East Central Rail) यात्रियों को बेहतर सेवा प्रदान करने हेतु हमेशा तत्पर रहता है. सफर के दौरान यात्रियों को बेहतर स्वच्छता का अनुभूति कराने हेतु चलती ट्रेन में कोचों में साफ-सफाई के लिए पूर्व मध्य रेल से खुलने वाली 40 जोड़ी ट्रेनों में ऑन बोर्ड हाउसकीपिंग सेवा उपलब्ध करा रही है. पूर्व मध्य रेल की ओर से मुख्य जनसंपर्क अधिकारी वीरेन्द्र कुमार ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से दी है.

विज्ञप्ति के अनुसार, स्टेशनों पर बेहतर साफ-सफाई के लिए पूर्व मध्य रेल के 35 प्रमुख स्टेशनों पर मैकेनाइज्ड क्लीनिंग फैसिलिटी उपलब्ध करा रही है.

इनमें दानापुर मंडल के पटना, राजेन्द्रनगर, पाटलीपुत्र, पटना साहिब, आरा, मोकामा, बख्तियारपुर, जमुई, किउल; सोनपुर मंडल के सोनपुर, हाजीपुर, मुजफ्फरपुर, बरौनी, बेगुसराय, खगड़िया, मानसी; समस्तीपुर मंडल के समस्तीपुर, दरभंगा, जयनगर, मधुबनी, सहरसा, रक्सौल, नरकटियागंज, बापूधाम मोतिहारी; पं. दीन दयाल उपाध्याय मंडल के गया, सासाराम, अनुग्रह नारायण रोड, पं. दीन दयाल उपाध्याय जं. एवं धनबाद मंडल के धनबाद, गोमो, पारसनाथ, कोडरमा, डालटनगंज एवं सिंगरौली स्टेशन शामिल हैं.

विज्ञप्ति में बताया गया है कि भारतीय रेलवे दुनिया में पहली रेलवे है, जिसने ट्रेनों में पर्यावरण अनुकूल बायो टायोलेट परियोजना (Bio Toilet Project) को लागू किया है. इस योजना के तहत मानव मल-मूत्र को बैक्टीरिया के माध्यम से विसर्जित करने के लिए मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों में एक बायो टॉयलेट (Bio Toilet) स्थापित किए जा रहे हैं.

यह भी पढ़ें| बानसवाडि-पटना-बानसवाडि एक्सप्रेस 12 जून से सर एम.विश्वेश्वरैया टर्मिनल, बेंगलुरू से खुलेगी

पूर्व मध्य रेल में वर्ष 2015 से बायो टॉयलेट लगाना प्रारंभ हुआ था और पूर्व मध्य रेल को भारतीय रेल की पहली क्षेत्रीय रेल होने का गौरव प्राप्त है जिसने अपने सभी कोचों में शतप्रतिषत बॉयो टायोलेट लगा दिये हैं. पूर्व मध्य रेल के पांचों मडलों के 14 कोचिंग डिपो में 1865 एलएचबी कोचों तथा 1697 आईसीएफ कोचों सहित कुल 3562 कोचों में बॉयो टॉयलेट लगाये जा चुके हैं.