एनटीपीसी बाढ़ परियोजना में कोविड टीकाकरण अभियान जोरों पर

बाढ़ (TBN – अखिलेश्वर कु सिन्हा की रिपोर्ट)| कोरोना महामारी की दूसरी लहर में हुए हजारों मौतों को देखते हुए पूरे देश में कोरोना टीकाकरण प्रक्रिया को जोरों से चलाया जा रहा है. इसी कड़ी में एनटीपीसी बाढ़ परियोजना (NTPC Barh Project) में सभी संविदा कर्मियों और सहयोगियों का टीकाकरण कार्य जारी है.

अब तक 4500 को लग चुकी पहली डोज़

इससे पहले यहां सभी कर्मचारियों का टीकाकरण पूरा किया जा चुका है. परियोजना द्वारा चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान से अब तक 4500 से अधिक व्यक्ति लाभान्वित हो चुके हैं. इसमें 45 वर्ष से कम आयु के करीब 2000 व्यक्ति हैं, वहीं 2500 से भी अधिक मजदूरों को भी वैक्सीन की पहली डोज़ लगाई जा चुकी है.

शनिवार को भारी बारिश के बावजूद भी मजदूर और बाकी कर्मी साइकिल और अपनी वाहनों से बड़ी संख्या में एनटीपीसी के टीकाकरण केंद्र पहुंचे और कोरोना वैक्सीन लगवाई.

टीकाकरण प्रक्रिया

टीकाकरण प्रक्रिया में सबसे पहले एनटीपीसी के मेडिकल कर्मी वैक्सीन लगवाने आए व्यक्ति की जानकारी दर्ज करते हैं. इसमें उनका नाम, उम्र और पहचान पत्र से जुड़ी जानकारी को COWIN Portal पर दर्ज किया जाता है. दिन के अंत में ये जानकारी स्वास्थ्य विभाग को भेज दी जाती है. जब लाभान्वित की ज़रूरी जानकारी दर्ज कर ली जाती है, उसके बाद उसे टीकाकरण के लिए भेजा जाता है.

एनटीपीसी बाढ़ के मेडिकल ऑफिस डॉ रतन कुमार बताते हैं, “हमारी मेडिकल टीम ने अब तक 4 हज़ार से ज़्यादा व्यक्तियों का टीकाकरण किया है और आगे भी इसे अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने के लिए हम तत्पर हैं.”

आप यह भी पढ़ें – बिहार का ऐतिहासिक देववरूणार्क सूर्यमंदिर बदहाल स्थिति में

यूं तो कोरोना महामारी में NTPC बाढ़ ने काफी कठिन हालात का सामना किया, लेकिन कोरोना से बचाव को लेकर जो कदम एनटीपीसी ले रही है, वह सराहनीय हैं. एनटीपीसी के जनसम्पर्क अधिकारी अभिषेक शुक्ला ने बताया कि संक्रमण की रफ्तार रोकने के लिए एनटीपीसी प्रबंधन पूरी तरह सजग और तत्पर है. इस कोशिश में एनटीपीसी को सरकार और स्थानीय प्रशासन का पूरा सहयोग मिल भी रहा है.

आप यह भी पढ़ें – पारस ने पुरानी सभी समितियों को भंग कर बनाई नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी समिति

उल्लेखनीय है कि बिहार में एनटीपीसी के 6 पावर प्लांट हैं और निर्बाध बिजली आपूर्ति के लिए इसके सभी कर्मियों का टीकाकरण बेहद ज़रूरी है। एनटीपीसी प्रबंधन ने बताया कि इस निःशुल्क टीकाकरण अभियान में सरकार और स्थानीय प्रशासन का भरपूर सहयोग और साझेदारी रही है.