बिहार में कोरोना वायरस को लेकर एडवाइजरी जारी, नेपाल द्वारा 5 देशों के अस्थाई वीजा पर प्रतिबन्ध

पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट)- चीन में कोरोना वायरस के कहर से अब तक सैंकड़ों मौतें हो चुकी हैं. इसके मद्देनजर भारत सरकार ने अपने नागिरकों के लिए चीन जाने को लेकर नई ट्रेवल एडवाइजरी जारी करते हुए भारतीय नागरिकों से चीन की यात्रा करने से परहेज करने को कहा है. बिहार में भी कोरोना वायरस को लेकर एडवाइजारी जारी कर दी गयी है और भारत के पडोसी देश नेपाल में कोरोना प्रभावित चीन सहित पांच देशों के नागरिकों के अस्थाई वीजा पर रोक लगाने की घोषणा कर दी गयी है.

बिहार के स्वास्थ्य विभाग ने राज्य में कोरोना वायरस का एक भी मरीज नहीं मिलने की पुष्टि करते हुए एडवाइजरी जारी कर लोगों से अफवाहों पर ध्‍यान नहीं देने की अपील की है. कोरोना वायरस से बचाव के लिए छींकते व खासते समय नाक व मुंह को ढंकने तथा रूमाल या तौलिये का इस्तेमाल करने का दिशा निर्देश भी दिया है. स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने लोगों को सचेत हुए कहा है कि “कोरोना के लक्षण मिलने पर तुरंत 104 नंबर पर कॉल करें या निकटतम सरकारी स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर प्राथमिक उपचार करवाएं.

भारत के पडोसी देश नेपाल के गृह मंत्रालय ने सोमवार को मंत्रिपरिषद की बैठक बुलाई. इस बैठक में 7 से 31 मार्च तक चीन, ईरान, इटली, दक्षिणी कोरिया व जापान के नागरिकों के अस्थाई वीजा पर आने पर रोक लगाने का फैसला लिया गया. इसके साथ ही विदेश मंत्रालय को ईरान सहित 13 देशों पर नजर रखने का निर्देश भी दिया गया है. अब अन्य देशों के नागरिकों को नेपाल में प्रवेश के लिए काठमांडू के त्रिभुवन एयरपोर्ट पर अनुमति पत्र लेने का दिशा निर्देश जारी किया गया है.

ज्ञात हो नेपाल वर्ष 2020 को पर्यटन वर्ष के रूप में मना रहा है. नेपाल में चीन से बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं. पिछले महीने लगभग 200    चीनी पर्यटक नेपाल घूमने आये थे. इस वर्ष लगभग 10 लाख चीनी पर्यटकों के आने का अनुमान था. लेकिन चीन में फैले कोरोना वायरस से बिगड़े हालात को देखते हुए नेपाल स्वास्थ्य विभाग और सामाजिक, राजनीतिक संगठनों ने चीनी नागरिकों के नेपाल आगमन पर रोक लगाने पर आवश्यक कार्यवाही करने का विचार व्यक्त किया था. जिसके फलस्वरूप नेपाल के गृह मंत्रालय के द्वारा ये ठोस कदम उठाया गया है .