ट्यूब में मारिए फूंक और 1 मिनट में जानिए कोरोना है या नहीं

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क) | इजरायल के साथ मिलकर भारत कोरोना वायरस के टेस्ट में एक बड़ा धमाका करने जा रहा है. दोनों देशों ने मिलकर कोरोना के सुपर रैपिड टेस्ट की गेमचेंगर टेक्नॉलजी लगभग तैयार कर लिया है. रैपिड टेस्टिंग रिसर्च अब फाइनल स्टेज में हैं और कुछ दिनों में ही यह पूरी तरह तैयार हो जाएगी.

भारत में इजरायल के राजदूत रॉन माल्का ने एक न्यूज एजेंसी को दिए गए साक्षात्कार में बताया कि कोरोना संक्रमण के सुपर रैपिड टेस्ट की खासियत है कि इससे एक मिनट से भी कम समय में टेस्ट का रिजस्ट आ जाता है. उन्होंने कहा कि भविष्य में हेल्थकेयर भारत और इजरायल के बीच तालमेल के लिए एक महत्वपूर्ण क्षेत्र होगा.

कैसे काम करेगा सुपर रैपिड टेस्ट

इस सुपर रैपिड टेस्ट टेक्नॉलजी के द्वारा व्यक्ति में कोरोना संक्रमण सिर्फ 1 मिनट में पता चल जाएगा. इसके लिए टेस्ट कराने वाले व्यक्ति को एक ट्यूब में सिर्फ मुंह से हवा मारनी है. रॉन माल्का के अनुसार इससे सिर्फ 30-40-50 सेकंड में रिजल्ट मिल जाएंगे.

रॉन माल्का ने साक्षात्कार में बताया कि पूरी दुनिया के लिए यह एक अच्छी खबर है. इसे एयरपोर्ट और दूसरे जगहों पर इस्तेमाल किया जा सकेगा. इस टेस्ट की लागत भी बहुत कम होगी क्योंकि सैंपल को लैब भेजने की जरूरत नहीं पड़ती है. साथ ही, टेस्ट करने वाले को टेस्ट का रिजल्ट भी टेरान्त मिल जाएगा.

इजरायली राजदूत ने बताया कि भरोसेमंद और कारगर कोरोना वैक्सीन का सबसे ज्यादा उत्पादन भारत ही करेगा. उन्होंने दोनों देशों के बीच वैक्सीन को लेकर तालमेल के बारे में कहा कि हम दोनों हमेशा से रिसर्च और टेक्नॉलजी के क्षेत्र में एक-दूसरे को मदद करते रहें हैं. इस वैक्सीन पर भी दोनों देश एक-दूसरे का समर्थन तथा सहयोग कर रहे हैं, इजरायली राजदूत ने बताया.

इजरायली राजदूत रॉन माल्का ने न्यूज एजेंसी को बताया कि कोरोना वैक्सीन का हब बनने के मामले में भारत में सभी सुविधाएं मौजूद हैं. उन्होंने कहा कि जब भी विश्वसनीय, सुरक्षित और कारगर वैक्सीन बनेगी तब उसमें से ज्यादातर का उत्पादन भारत में होगा. माल्का ने कहा कि भारत जब भी वैक्सीन बनाएगा तब इजरायल की जरूरतों का भी ख्याल रखेगा.