किसानों के राहत के लिए 518 करोड़ की राशि का ऐलान 

  पटना (संदीप फिरोजाबादी की रिपोर्ट) :- बिहार में बारिश और ओलावृष्टि के चलते फसलों के बर्बाद हो जाने से किसानों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा था. बिन मौसम हुई इस बरसात और ओलावृष्टि ने किसानों की मुसीबतों को और ज्यादा बढ़ा दिया है. अब बिहार के किसानों के लिए एक अच्छी खबर आ रही है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार के द्वारा एक बड़ा फैसला लेते हुए किसानों को फसल के बर्बाद होने जाने से जो भी नुकसान हुआ था उसके लिए फसल क्षति के भुगतान के रूप में 518 करोड़ से ज्यादा की राशि स्वीकृत कर दी है. इस राहत भरी खबर से किसानों के चेहरे पर मुस्कान आ जाएगी.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आवास पर हुई आज एक हाई लेवल मीटिंग के बाद किसानों के फसल नुकसान का मुआवजा देने का फैसला किया है. इस हाई लेवल मीटिंग में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, कृषि मंत्री प्रेम कुमार, जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा, आपदा प्रबंधन मंत्री लक्ष्मेश्वर राय के अलावे मुख्य सचिव दीपक कुमार और आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत के साथ-साथ वित्त विभाग के प्रधान सचिव सिद्धार्थ कृषि विभाग के सचिव सरवन कुमार भी उपस्थित हुए थे.

ज्ञात हो पिछले दिनों मार्च महीने में बिहार के पटना, सासाराम, कैमूर, बक्सर, छपरा, वैशाली, मुजफ्फरपुर समेत कई जिलों में भारी बारिश और ओलावृष्टि हुई थी. ओलावृष्टि और बारिश के कारण जिन किसानों की फसल बर्बाद हुई है, उन्हें सरकार के द्वारा फसल की क्षति का मुआवजा देने का फैसला किया गया है  कृषि विभाग के मुताबिक मार्च महीने में खराब मौसम के कारण लगभग चार लाख हेक्टेयर क्षेत्र में 33 फ़ीसदी फसल बर्बाद हुई है. एक अनुमान के मुताबिक लगभग 13500 करोड़ रुपए की फसल बर्बाद हुई है, जिसके मुआवजे के तौर पर 518 की राशि स्वीकृत की गई है.