मंगलवार 19 अक्टूबर से होगा रबी अभियान-सह-राज्यस्तरीय रबी कर्मशाला का शुभारम्भ – कृषि मंत्री

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| मंगलवार 19 अक्टूबर से राज्य कृषि विभाग (Agriculture Department Bihar) द्वारा रबी अभियान-सह-राज्यस्तरीय रबी कर्मशाला का शुभारम्भ बामेती (BAMETI), पटना के सभागार में किया जायेगा. यह बात सोमवार को बिहार कृषि विभाग के मंत्री अमरेन्द्र प्रताप सिंह (Amrendra Pratap Singh Minister) ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कही.

उन्होंने बताया कि इसी दिन से रबी मौसम के लिए राज्य में किसान चैपाल की भी शुरूआत की जायेगी. उनके अनुसार, चूंकि इस वर्ष खरीफ मौसम समाप्ति की ओर है इसलिए अब राज्य के किसानों को रबी मौसम में फसलों की अग्रिम बुवाई पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है.

मंत्री ने कहा है कि कृषि विभाग द्वारा रबी मौसम में फसलों के उत्पादन एवं उत्पादकता बढ़ाने के लिए कई कार्यक्रमों के क्रियान्वयन करने का निर्णय लिया गया है. इस अभियान के माध्यम से किसानों को कृषि संबंधी तकनीकी प्रशिक्षण देते हुए कृषि विभाग द्वारा संचालित विभिन्न कार्यक्रमों की जानकारी एवं प्रचार-प्रसार तथा विभिन्न उपादानों का वितरण पारदर्शी तरीके से सुनिश्चित किया जायेगा.

मंत्री ने कहा कि राज्यस्तरीय रबी कर्मशाला के बाद 21 अक्टूबर को सभी जिला मुख्यालयों में जिला स्तरीय रबी कर्मशाला-सह-प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा. इस कार्यक्रम में रबी मौसम में की जाने वाली फसलों की खेती एवं अन्य कृषि कार्य के लिए जिला एवं प्रखण्डस्तरीय पदाधिकारियों तथा प्रसार कर्मियों को लक्ष्य की जानकारी एवं प्रशिक्षण दिया जायेगा.

इसके बाद 25 अक्टूबर से 09 नवम्बर तक राज्य के सभी प्रखंड मुख्यालयों में प्रखण्डस्तरीय प्रशिक्षण-सह-रबी कर्मशाला का आयोजन किया जायेगा. साथ ही, इस अवधि में राज्य के सभी पंचायतों में किसान चैपाल कार्यक्रम का आयोजन भी किया जायेगा.

यह भी पढ़ें| पटना जंक्शन के करबिगहिया छोर पर रिटायरिंग रूम की सुविधा शुरू

सिंह ने कहा कि इस महाभियान के माध्यम से किसानों को तेलहन, दलहन, मक्का के साथ-साथ बागवानी फसलों, गेहूँ के बीज/उपादान तथा कृषि विभाग की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत दिया जाने वाला अनुदान उपलब्ध कराया जाएगा.

मंत्री ने आगे बताया कि इस कार्यक्रम में विशेषज्ञों द्वारा लाभार्थी किसान को कृषि की उन्नत तकनीक एवं विभागीय योजना में देय अनुदान के संबंध में जानकारी एवं प्रशिक्षण दी जाएगी तथा उनके बीच विभिन्न योजनाओं के तहत् अनुदानित दर पर उपादान का वितरण भी किया जाएगा.