मैट्रिक, इंटर परीक्षा में फेल हुए बच्चों को पास घोषित किया गया,ख़बर पढ़े

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | बिहार सरकार ने कोरोना संकट के बीच छात्रों के लिए बड़ा फैसला लिया है. मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में फेल हुए 2 लाख 14 हजार से ज्यादा छात्रों को पास घोषित कर दिया गया है. दरअसल सरकार कोरोना के कारण कम्पार्टमेंटल परीक्षा नहीं ले पायेगी जिसके वजह से ये फैसला लिया गया है.

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने कि अधिसूचना जारी

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से दी गयी जानकारी के मुताबिक मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में ऐसे लाखों छात्र फेल घोषित किये गये हैं जो सिर्फ एक या दो विषय में फेल थे. इसके कारण उनका रिजल्ट फेल घोषित किया गया था. सरकारी नियमों के मुताबिक ऐसे छात्रों को कम्पार्टमेंटल परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाती है. अगर कम्पार्टमेंटल परीक्षा में वे पास कर जाते हैं तो उन्हें पास घोषित किया जाता है.

लेकिन कोरोना संकट के कारण बिहार में मैट्रिक और इंटर की कम्पार्टमेंटल परीक्षा का आयोजन संभव नहीं था. लिहाजा बिहार विद्लायल परीक्षा समिति ने राज्य सरकार से दिशा निर्देश मांगा था. सरकार ने कहा कि कोरोना के कारण कम्पार्टमेंटल परीक्षा संभव नहीं है और अगर दो-तीन महीने बाद ये परीक्षा ली भी जाये तो रिजल्ट घोषित करने में नवंबर-दिसंबर तक का समय लग जायेगा. ऐसे में छात्रों को कम्पार्टमेंटल परीक्षा का कोई लाभ नहीं मिल पायेगा.

कोरोना के कारण कम्पार्टमेंटल परीक्षा को स्थगित किये जाने से उत्पन्न स्थिति को देखते हुए राज्य सरकार ने बडा फैसला लिया है. सरकार ने ऐसे सभी छात्रों को पास घोषित कर दिया है. जो कम्पार्टमेंटल परीक्षा में शामिल होने के योग्य थे. यानि एक या दो विषय में फेल थे. सरकार ने तय किया है कि ऐसे छात्र जिस विषय में फेल हैं उसमें उनका नंबर बढ़ा कर उन्हें पास घोषित कर दिया जायेगा. सरकार ने स्पष्ट किया है कि ऐसा फैसला अपवाद स्वरूप सिर्फ एक बार के लिए लिया गया है. यानि अगले साल ये फैसला अमल में नहीं लाया जायेगा.