गुस्से में तेजप्रताप यादव, कहा- झारखंड सरकार पर दर्ज हो FIR

पटना : TBN : लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव हमेशा अपने अजीबोगरीब बयान के लिए सुर्खियों में रहते हैं. तेजप्रताप ने पटना में रविवार को मीडिया से बात करते हुए रांची होटल मामले पर एक बार फिर ऐसा बयान दिया है जिससे हेमंत सरकार को आपत्ति हो सकती है. दरअसल तेजप्रताप यादव ने रांची में नियमों को तोड़ते हुए होटल खुलवाने के मामले में वहां की सरकार हेमंत सरकार हो ही दोषी ठहराया है.

‘राज्य सरकार ने नहीं दिया गेस्ट हाउस’

तेजप्रताप यादव से जब मीडिया कर्मियों ने पूछा कि रांची में नियमों के खिलाफ होटल खुलवाए जाने को लेकर वहां की सरकार ने आपके उपर FIR दर्ज करवाने की बात कही है तो इस पर तेजप्रताप भड़क गए और कहा कि झारखंड सरकार पर एफआईआर दर्ज होना चाहिए. क्यों कि वहां की सरकार से हमने पहले ही हमारे रुकने के लिए गेस्ट हाउस की मांग की थी लेकिन हमें गेस्ट हाउस नहीं उपलब्ध कराया गया.

‘मैं सड़क किनारे नहीं न सोता’

तेजप्रताप यादव ने कहा है कि देखिए हम 4 गाड़ियों के साथ गए थे. हमारे साथ पीछे से कितनी गाड़ियां गई थी. ये हमको नहीं पता है. जो पीछे से आ जाते हैं हम उनके साथ लड़ नहीं सकते हैं और न ही उनको कुछ बोल सकते हैं. हमने झारखंड के मुख्य सचिव से मुलाकात भी की थी. उन्होंने कहा था कि एक लेटर दे दीजिए कि आप दूसरे राज्य से आए हैं. हमने रांची में कोरोना का टेस्ट भी करवाया था, जो निगेटव आया था. मेरे साथ 4 लोग थे उनका भी रिपोर्ट निगेटिव आया था. हम रांची में सड़क के किनारे नहीं न सो जाते. हमको तो कहीं आशियाना चाहिए था. सो होटल ले लिए. झारखंड सरकार को चाहिए था कि हमें होटल उपलब्ध करवाती. हमने झारखंड से पहले मांग भी की थी कि गेस्ट हाउस दिया जाए. ये झारखंड सरकार की गलती है. झारखंड सरकार केस होना चाहिए.   

बिहार सरकार पर भी जमकर बरसे तेजप्रताप

तेजप्रताप यादव ने कहा है कि बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह से चरमराई हुई है. बिहार के न डॉक्टर है, न दवा है. अस्पताल में जमीन पर मरीज में लिटा देते हैं. इस बार बिहार सरकार का जाना तय है.

‘सर्वे के बाद देंगे अपना उम्मीदवार’

तेजप्रताप यादव ने कहा कि संगठन में जो आदमी काम करता है, उसके लिए टिकट का डिमांड किया है. सब लोग अपना अपना राय रखने का काम करते हैं. पहले हम सर्वे करवाएंगे. फिर जिताऊ उम्मीदवार को टिकट देंगे.