राष्ट्रपति ने रियाज के सपनों को दी रफ्तार, दिया ये खास तोहफा

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क) | युवाओं को देश के निर्माण के लिए उत्साहित करने की दिशा में कदम उठाते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बहुत ही गरीब परिवार से आने वाले 9वीं कक्षा में पढ़ रहे रियाज़ को एक रेसिंग साइकिल तोहफे में देने के लिए चुना है.

बिहार के मधुबनी के रहने वाले साइकलिस्ट रियाज़ ने बताया राष्ट्रपति जी ने मुझे ईद की बधाई दी, मुझे बहुत खुशी हो रही है कि उनके हाथों मुझे रेसिंग सायकिल गिफ्ट किया गया. ये हमारे लिए बहुत खुशी का क्षण है. मैं करीब पांच साल से सायकिल रेस कर रहा हूं. मैंने खेलो इंडिया के तहत गुवाहाटी जाकर रेस में भाग लिया और मुझे पुरस्कृत भी किया गया. गाज़ियाबाद के छोटे से किराए की घर में रहता हूं, मेरी मां दूसरों के घरों में काम करती है.

कृपया आप इसे भी पढ़ें –
रिया चक्रवर्ती लापता, मोबाइल भी बंद, मुंबई पुलिस नहीं कर रही सहयोग
अभी अभी: रिया चक्रवर्ती बिहार पुलिस की निगरानी में, अभी पूछताछ नहीं
पटना राजभवन के 7 स्टॉफ और तीन डॉक्टर निकले कोरोना पॉजिटिव
भागलपुर: मस्जिद में नमाज रोकने गए पुलिसकर्मियों पर उपद्रवियों ने बरसाया पत्थर
सुशांत के रिश्तेदार पर लगा गवाहों पर दबाव डालने के आरोप

आपको बता दें कि रियाज़ दिल्ली के आनंद विहार के सर्वोदय बाल विद्यालय में 9वीं का छात्र है. वो मूल रूप से बिहार के मधुबनी का रहने वाला है. उसके माता-पिता, दो बहनें और एक भाई, वहीं रहते हैं. लेकिन रियाज़ गाज़ियाबाद के महाराजपुर में एक किराए के रूम में रहता है. उसके पिता रसोइए का काम करते हैं. ऐसे में आर्थिक मदद के लिए रियाज़ खाली वक्त में गाज़ियाबाद के एक खाने-पीने की दुकान पर बर्तन धुलने का काम करता है.

रियाज के कोच प्रमोद शर्मा ने बताया कि रियाज़ में रेसिंग को लेकर एक जुनून है, उसे कुछ करने की ललक है, लंबी अवधि तक वह रेसिंग करता है, राष्ट्रपति जी ने उसे ईद की मुबारकबाद भी दी. राष्ट्रपति महोदय ने यह भी कहा कि रियाज़ जिस इलाके में रहता है वहां सायकिल सुरक्षित रहेगा कि नहीं इसे लेकर स्थानीय प्रशासन को निर्देश भी दिया गया की साइकिल सुरक्षित रहनी चाहिए क्योंकि साइकिल बहुत मंहगी है.

राष्ट्रपति कोविंद ने रियाज़ को उसकी उपलब्धियों पर बधाई दी और उसे शुभकामनाएं देते हुए कहा कि रियाज़ की ही तरह देश के युवाओं को देश-निर्माण में अपनी मेहनत, साहस और समर्पण से जुटना चाहिए.

Advertisements