पंजाब, गोवा, उत्तराखंड में 14 फरवरी को मतदान, यूपी में सात चरणों में और मणिपुर में दो चरणों में मतदान

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा (Chief Election Commissioner Sushil Chandra) ने शनिवार को बताया है कि उत्तर प्रदेश, गोवा, मणिपुर, पंजाब और गोवा में कुल सात चरणों में चुनाव (Announcement of Assembly Elections in UP, Goa, Manipur, Punjab & Uttakhnad) होंगे. चुनाव आयोग ने बताया है कि उत्तर प्रदेश में सात चरणों, पंजाब में एक चरण, गोवा में एक चरण, मणिपुर में दो चरणों और उत्तराखंड में एक चरण में चुनाव होंगे.

बता दें कि उत्तर प्रदेश में 403 सीटों, पंजाब में 117 सीटों, गोवा में 40 सीटों, उत्तराखंड में 70 सीटों और मणिपुर में 60 सीटों पर सैकड़ों उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमाएंगे. इन पांचों राज्यों में हुए मतदान के बाद मतगणना दस मार्च को की जाएगी. इसके बाद सरकार गठन की प्रक्रिया शुरू होगी.

फिलहाल, इनमें से उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा में बीजेपी की सरकार है. और पंजाब में कांग्रेस सत्तारूढ़ दल है.

यह भी पढ़ें| एक बार फिर भगवान और भक्त के बीच बढ़ी दूरियां, महाबोधि मंदिर को किया गया बंद

मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि इन पांच राज्यों की 690 विधानसभा सीटों पर चुनाव संपन्न होंगे. 18 करोड़ 34 लाख मतदाता इन चुनाव में हिस्सा लेंगे. आयोग ने कहा है कि सात चरणों में चुनाव संपन्न होंगे.

चुनाव कार्यक्रम –

> उत्तर प्रदेश में पहला चरण- 10 फरवरी

> उत्तर प्रदेश में दूसरे चरण का चुनाव- 14 फरवरी

> उत्तर प्रदेश में तीसरा चरण- 20 फरवरी

> उत्तर प्रदेश में चौथा चरण- 23 फरवरी

> पांचवा चरण- 27 फरवरी

> उत्तर प्रदेश में को छठा चरण- 3 मार्च

> उत्तर प्रदेश में सातवां चरण- 7 मार्च

> इसके साथ ही पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में 14 फरवरी को एक चरण में मतदान कराया जाएगा. जबकि मणिपुर में 27 और 3 मार्च को मतदान कराया जाएगा.

दस मार्च होगी को मतगणना

चुनाव आयोग ने बताया है कि सात चरणों के मतदान के बाद दस मार्च को मतों की गिनती होगी. हालांकि, चुनाव आयोग ने कोरोना के बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए तमाम इंतज़ाम किए हैं. आयोग का कहना है कि सुरक्षित चुनाव कराना पहली प्राथमिकता है. कोरोना के बीच चुनाव कराने के लिए नए प्रोटोकॉल लागू किए जाएंगे.

चुनाव आयोग ने कहा कि 15 जनवरी तक किसी भी तरह के रोड शो, रैली, पद यात्रा, साइकिल और स्कूटर रैली की इजाजत नहीं होगी. वर्चुअल रैली के ज़रिए ही चुनाव प्रचार होगा. जीत के बाद किसी तरह के विजय जुलूस भी नहीं निकलेगा.

इसके साथ ही चुनाव आयोग ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में निम्नलिखित जानकारी दी है –

> चुनाव ड्यूटी में लगे सभी लोगों को बूस्टर डोज़

> पोलिंग बूथ पर मास्क, सैनिटाइजर, थर्मल स्कैनिंग की व्यवस्था

> 2.15 लाख से अधिक पोलिंग स्टेशन

> पोलिंग स्टेशन पर अधिकतम वोटरों की संख्या 1500 से घटाकर 1250 की गई.

> वोटिंग का समय एक घंटा बढ़ाया गया.

> 15 जनवरी तक रोड शो, पदयात्रा, साइकिल रैली तक नहीं.

> कोई विजय जुलूस भी नहीं