जब तक कायस्थ संगठित नहीं होंगे, उनका विकास नहीं होगा: राजीव रंजन

बैंगलूरू / पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| कायस्थ समाज ने हमेशा समाज को दिशा प्रदान की है और वर्तमान परिवेश में आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक सशक्तीकरण के लिये आपस में संगठित होना बेहद जरूरी है। यह बात ग्लोबल कायस्थ कांफ्रेंस (Global Kayashtha Conference) के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन प्रसाद ने कही. वे कर्नाटक इकाई की प्रदेश कार्य समिति की दूसरी बैठक में शिरकत कर रहे थे.

कायस्थ समाज के लोगों को एकजुट होकर आगे बढ़ने का आह्वान करते हुये राजीव रंजन प्रसाद ने अपने संबोधन में कहा कि कायस्थ समाज ने हमेशा समाज को दिशा प्रदान की है. उन्होंने कहा कि आजादी के आंदोलन से लेकर अब तक देश सेवा में कायस्थ समाज के लोगों का उल्लेखनीय योगदान रहा है. वर्तमान समय को देखते हुए कायस्थ समाज को भी एकजुट होकर कार्य करने की जरूरत है, तभी हम हर स्तर पर मजबूत हो सकते हैं.

उन्होंने कहा कि जब तक कायस्थ समाज के लोग संगठित होकर नहीं रहेंगे, तब तक उनका विकास नहीं हो सकेगा. जीकेसी की स्थापना का महत्वपूर्ण उद्देश्य सम्पूर्ण कायस्थ समाज को संगठित, उन्नत एवं सशक्त करना है.

आप यह भी पढ़ेंविद्यापति ने मिथिला संस्कृति को विश्वपटल पर दिलायी पहचान : राजीव

राजीव ने आगे कहा कि चित्रांश चैंबर्स ऑफ कॉमर्स, चित्रांश परिवार के लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध करायेगी. कायस्थ समाज के लोगों को एक दूसरे से समन्वय स्थापित करने की जरूरत है, जिससे उनका सर्वांगीण विकास हो सके. बैठक में जीकेसी कर्नाटक ईकाई की ओर से सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए रोड मैप की रूपरेखा भी तैयार की गयी. बैठक में यह निर्णय लिया गया कि कर्नाटक जीकेसी ईकाई वरिष्ठ नागरिकों को वैक्शीनेशन एप में फार्म भरने में मदद करेगी.

जीकेसी कर्नाटक इकाई की प्रदेश कार्य समिति की दूसरी बैठक डिजिटल-संचार प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष और कर्नाटक के प्रभारी आनंद कुमार सिन्हा तथा जीकेसी कर्नाटक के प्रदेश अध्यक्ष डा.कुमार मानवेन्द्र की अध्यक्षता में की गयी. इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि जेकेसी के रार्ष्टीय अध्यक्ष राजीव रंजन प्रसाद बतौर मुख्य अतिथि, जबकि बतौर विशिष्ठ अतिथि राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सह महाराष्ट्र के प्रदेश अध्यक्ष कुमार शिशिर सिन्हा मौजूद थे.

इससे पहले जीकेसी कर्नाटक ईकाई की टीम ने फूलबुके, शॉल, पगड़ी और मेमोंटो देकर राजीव रंजन प्रसाद और श्री कुमार शिशिर सिन्हा का भव्य स्वागत किया.

इस बैठक में जूम मीटिंग के जरिये अखिलेश श्रीवास्तव, नेहा निरुपम, उपासना सहाय, अलीशा शिवम, सुनील श्रीवास्तव, नवीन श्रीवास्तव, प्रेम कुमार, पूजा आनंद समेत कई लोगों ने संबोधित किया. इस दौरान समाज में अलग-अलग क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वाले जीकेसी के पदाधिकारियों को जीकेसी कर्नाटक इकाई की ओर से कोरोना वारियर्स अवार्ड से सम्मानित किया गया.

इस दौरान होली मिलन समारोह का भी आयोजन किया गया. जीकेसी के पदाधिकारियों ने अबीर लगाकर लोगों को शुभकमाना दी. इस अवसर पर बिहार चैप्टर के अध्यक्ष स्वराज सिन्हा, उद्यमी मनोज कुमार, एवीएम डा.जयंता डे (Rtd.), ग्रुप कैप्टन आशीष अमबष्ठा(Rtd.), संजय सिन्हा, सहित अन्य लोग भी मौजूद थे.

इस दौरान राजीव रंजन प्रसाद ने बिहार भवन में भी दौरा किया, जहां उन्होंने बिहार भवन के अध्यक्ष उदय कुमार, सचिव पंडित राजगुरू, आशुतोष कुमार से मुलाकात की. बिहार भवन और जेकेसी समन्वय स्थापित कर साझा कार्यक्रम करने का निर्णय लिया है. बिहार भवन के सदस्यों के साथ जीकेसी के पदाधिकारियों ने फूलों की होली खेली.