ऑटोपायलट में खराबी के बाद नासिक जाने वाली स्पाइसजेट की फ्लाइट वापस दिल्ली लौटी

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| स्पाइसजेट का बोइंग-737 (SpiceJet’s Boeing-737) गुरुवार को इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से उड़ान भरने के थोड़ी ही देर बाद वापस दिल्ली हवाई अड्डा लौट आया. एयरलाइंस ने एक बयान में कहा कि यह उड़ान गुरुवार सुबह उड़ान भरने के तुरंत बाद ऑटोपायलट सिस्टम (SpiceJet flight returned due to a malfunction in the autopilot system) में खराबी के कारण दिल्ली लौट आई.

DGCA (Directorate General of Civil Aviation) के एक अधिकारी ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि स्पाइसजेट की उड़ान संख्या SG-8363 ने दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से सुबह 6:54 बजे उड़ान भरी थी. लेकिन ऑटोपायलट में खराबी आने के बाद उसे वापस राष्ट्रीय राजधानी की ओर वापस मोड़ दिया गया. अधिकारी ने बताया कि विमान सुरक्षित दिल्ली पहुंच गया.

स्पाइसजेट के प्रवक्ता ने बताया, “1 सितंबर, 2022 को, स्पाइसजेट B737 विमान दिल्ली से नासिक के लिए संचालित होने वाला था, फ्लाइट क्रू के ऑटोपायलट सिस्टम में खराबी का पता चलने के बाद विमान वापस दिल्ली लौट आया. विमान ने दिल्ली में सामान्य लैंडिंग की और यात्रियों को सामान्य रूप से उतारा गया.”

गुरुवार की यह घटना, हाल के महीनों में स्पाइसजेट को बीच हवा में खराबी पता चलने की कड़ी में सबसे नई घटना है. बता दें, नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) के आदेशों के बाद, स्पाइसजेट फिलहाल अपनी 50 प्रतिशत से अधिक उड़ानों का संचालन नहीं कर रही है.

बताते चलें, स्पाइसजेट हाल के दिनों में कई गड़बड़ियों और कुछ पायलटों के प्रशिक्षण के संबंध में अनिवार्य दिशानिर्देशों का पालन न करने के कारण अत्यधिक खराब दौर से गुजर रही है. यह सब अप्रैल 2022 में शुरू हुआ जब विमानन निगरानी महानिदेशालय (डीजीसीए) ने एयरलाइन के 90 पायलटों को बोइंग 737 मैक्स विमान के संचालन से रोक दिया, क्योंकि उन्हें ठीक से प्रशिक्षित नहीं किया गया था.

बताया जा रहा है कि उन पायलटों को एक दोषपूर्ण सिम्युलेटर पर प्रशिक्षित किया गया था और विमानन नियामक ने एयरलाइन से पायलटों को फिर से प्रशिक्षित करने के लिए कहा था. इसके अलावा एयरलाइन पर 10 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया था.

यह भी पढ़ें| चीन ने स्पेस में उगाए चावल और सब्जियां

साथ ही, नियामक ने पिछले जुलाई माह में स्पाइसजेट एयरलाइन की उड़ानों पर आठ सप्ताह की अवधि के लिए रोक लगा दी थी क्योंकि उसके विमान 19 जून से 5 जुलाई की अवधि में तकनीकी खराबी की कम से कम आठ घटनाएं हुई थी.