BPSC टॉपर सुधीर कुमार बनेंगे असिस्टेंट कमिश्नर

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बीपीएससी की 66वीं परीक्षा (BPSC 66th Exam) में टॉप करने वाले सुधीर कुमार (Sudhir Kumar BPSC Topper) स्टेट टैक्स असिस्टेंट कमिश्नर (State Tax Assistant Commissioner) के पद के लिए चुने गए हैं. हालांकि आईआईटी कानपुर (IIT-Kanpur) से सिविल इंजीनियरिंग (Civil Engineering) की पढ़ाई पास करने वाले सुधीर डीएसपी बनना चाहते थे.

वैशाली के महुआ (Mahua of Vaishali, Bihar) के रहने वाले सुधीर कुमार के अनुसार उनके बीपीएससी टॉपर बनने का सफर काफी उतार-चढ़ाव भरा था. उन्होंने महुआ के एक प्राइवेट स्कूल से 10वीं कक्षा पास की थी. इसके बाद बिहार बोर्ड से इंटर की परीक्षा पास की.

इन्टर पास करने के बाद सुधीर ने JEE में सफलता पाई और उन्होंने IIT कानपुर में दाखिला लिया. 2009 में उन्होंने सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की. उसके बाद वे गांव आकर गांव के बच्चों को पढ़ाना शुरू कर दिया और उन्हें 11वीं, 12वीं और IIT-JEE की तैयारी कराने में लग गए.

सुधीर ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि इंजीनियरिंग करने के बाद वे 2 साल तक बच्चों को पढ़ाने में लगा दी. कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के कारण लगे लॉकडाउन के बाद उन्होंने UPSC सिविल सर्विस की तैयारी करने का निर्णय लिया. इसके लिए वो दिल्ली चले गए.

दिल्ली में रहने के दौरान उन्होंने BPSC 66th Exam के लिए अप्लाई किया और परीक्षा में शामिल हुए. अपने पहले ही प्रयास में उन्हें सफलता हासिल हुई और वे टॉप कर गए.

सुधीर कुमार ने बीपीएससी परीक्षा को क्रैक करने के लिए परीक्षार्थियों को कई महत्वपूर्ण टिप्स दिए. उनके अनुसार, कोई भी सफलता ऐसे ही या किसी शॉर्टकट से नहीं मिलती है. इसके लिए लगातार मेहनत की जरूरत होती है.

उन्होंने टिप्स देते हुए कहा कि इस परीक्षा को क्रैक करने के लिए सिर्फ जनरल नॉलेज की किताब ही काफी नहीं होते हैं. बीपीएससी की लिखित परीक्षा को पास करने के लिए जनरल नॉलेज की किताबों पर ही भरोसा नहीं करना चाहिए.

परीक्षार्थियों द्वारा सोशल मीडिया पर उन्होंने कहा कि इसका इस्तेमाल सिर्फ जानकारी प्राप्त करने के लिए करना चाहिए. टाइम पास करने के लिए इसका इस्तेमाल कहीं से भी उचित नहीं है. साथ ही, उन्होंने एनसीईआरटी की किताबों को पढ़ने के लिए भी कहा क्योंकि किसी भी सरकारी नौकरी के लिए ये किताबें बहुत मददगार साबित होती हैं.