एक वर्ष में लगभग 40 हजार करोड़ के औद्योगिक निवेश के प्रोजेक्ट्स स्वीकृत – उद्योग मंत्री

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राज्य के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन (State Industries Minister Syed Shahnawaz Hussain) ने कहा है कि राज्य निवेश प्रोत्साहन पर्षद के माध्यम से पिछले एक वर्ष में लगभग 40 हजार करोड़ के औद्योगिक निवेश के प्रोजेक्ट्स स्वीकृत किए गये हैं. उन्होंने यह बात गुरुवार को बिहार इण्डस्ट्रीज एसोसिएशन (Bihar Industries Association) के सभागार कक्ष में कही.

शाहनवाज हुसैन के उद्योग मंत्री के रूप में एक साल पूरा होने के उपलक्ष्य में बिहार इण्डस्ट्रीज एसोसिएशन द्वारा उनके अभिनंदन समारोह, ‘‘स्नेह मिलन-सह-उद्योग संवाद’’ का आयोजन किया गया था. इसमें बिहार के विभिन्न हिस्सों से आए उद्यमी तथा विभिन्न उद्यमी संगठनों के प्रतिनिधिमंडल ने भाग लिया.

इस अवसर पर उद्योग मंत्री ने अपने एक साल के कार्यकाल में किए गए प्रयासों तथा उपलब्धियों का विवरण एवं आंकड़ा प्रस्तुत किया. उन्होंने कहा कि पिछले एक वर्षों में जबकि कोरोना महामारी के कारण लगभग 3 से 4 माह काम करने का अवसर नहीं प्राप्त हुआ के बावजूद राज्य निवेश प्रोत्साहन पर्षद के माध्यम से लगभग 40 हजार करोड़ के औद्योगिक निवेश के प्रोजेक्ट्स स्वीकृत किए गये हैं.

इथेनॉल आधारित उद्योगों के विकास की बड़ी संभावना

उन्होंने बताया कि राज्य सरकार के इथेनॉल नीति के माध्यम से यहां इथेनॉल के 17 नये प्रोजेक्ट्स लगने जा रहे हैं. इनमें 4 प्रोजेक्ट्स ट्रायल रन स्टेज में हैं. अभी हाल ही में भारत सरकार ने फ्लेक्सि इंजन के संचालन की अनुमति प्रदान की है अर्थात गाड़ियाँ अब केवल इथेनॉल से चल सकेगी. इस नीति से इथेनॉल उद्योग को काफी बल मिलेगा क्योंकि राज्य में इथेनॉल आधारित उद्योगों के विकास की बड़ी संभावना है.

उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने बताया कि बिहार में आज कानून का शासन है. साथ ही यहां उपलब्ध औद्योगिक भूखंड एवं आधारभूत संरचना के कारण देश के निवेशकों द्वारा राज्य में इन्वेस्ट करने की रुचि बढ़ी है.

यह भी पढ़ें| पटना: अतिक्रमण हटाने गए मजिस्ट्रेट को लोगों ने पीटा, पुलिस खड़ी देखती रही

उन्होंने बताया कि बिहार इण्डस्ट्रीज एसोसिएशन द्वारा दिए गए इनपुट के आधार पर राज्य के विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों में उद्यमियों के साथ उन्होंने सीधा सम्पर्क किया. इसका उद्देश्य औद्योगिक क्षेत्रों के आधारभूत संरचना को सुदृढ़ करना है.

उन्होंने बताया कि इसी कड़ी में मुजफ्फरपुर स्थित बेला औद्योगिक क्षेत्र (Bela Industrial Area at Muzaffarpur) के लिए सरकार से 115 करोड़ रुपये का आवंटन किया है. साथ ही साथ हाजीपुर औद्योगिक क्षेत्र को भी मॉडल औद्योगिक क्षेत्र (Model Industrial Area) के रूप में विकसित करने हेतु 150 करोड़ की कार्य योजना पर काम चल रहा है.

उन्होंने इस अवसर पर घोषणा करते हुए यह आश्वासन दिया कि राज्य के सभी औद्योगिक क्षेत्रों को इस तरह विकसित किया जायेगा ताकि वे गुजरात (Gujarat) के औद्योगिक क्षेत्रों से किसी भी रूप से कम न हो.

उन्होंने कहा कि मुजफ्फरपुर के मोतिपुर में स्थापित होने जा रही मेगा फूड पार्क (Mega Food Park at Motipur in Muzaffarpur) को एक बेमिसाल एवं अनूठा मेगापार्क के रूप में विकसित किया जायेगा.

यह भी पढ़ें| बेरोजगारी और आर्थिक तंगी ने ली हजारों की जान

उन्होंने कहा कि बिहार के लोग परिश्रमी व इनोभेटिव होते हैं. उनकी क्षमताओं के सही इस्तेमाल के लिए राज्य द्वारा बहुत जल्द स्टार्टअप (Start-Up) तथा एमएसएमई नीति (MSME Policy) में बहुत बड़ा बदलाव किया जाएगा. मंत्री ने आगे बताया कि राज्य की अलग टेक्सटाइल एवं लेदर नीति तथा लोजिस्टिक नीति (Textile & Leather Policy and Logistic Policy) लाने पर कार्य चल रहा है.

मंत्री महोदय ने “National Start-Up Seed Fund Scheme” के अंतर्गत एसोसिएशन द्वारा संचालित वेंचरपार्क के लिए 3 करोड़ की स्वीकृति की सराहना करते हुए घोषणा किया कि नीति के प्रावधान के अनुरूप राज्य सरकार भी 3 करोड़ का matching grant उपलब्ध करायेगा.

बिहार का नारा – “मेक इन बिहार”

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि राज्य के उद्योगों के लिए वे पूरे देश में घूम घूम कर बिहार की ब्रांडिंग कर रहे है. जिस तरह से केंद्र सरकार ने “मेक इन इंडिया” (Make In India) का नारा दिया है, उसी तरह बिहार का नारा है – “मेक इन बिहार” (Make In Bihar). उनके द्वारा यह भी बताया गया कि इसी माह सिंगल विण्डो सिस्टम को राज्य में पूरी तरह से कार्यरत कर दिया जायेगा जिससे कि उद्यमियों को आसानी हो.

इसके पूर्व बिहार इण्डस्ट्रीज एसोसिएशन के अध्यक्ष अरूण अग्रवाल ने राज्य के उद्योग जगत एवं बिहार इण्डस्ट्रीज एसोसिएशन की ओर से उद्योग मंत्री का स्वागत व अभिनन्दन किया. अपने स्वागत संबोधन में उन्होंने राज्य के औद्योगिक उपलब्धियों पर संक्षिप्त प्रकाश डाला. साथ ही, राज्य के औद्योगिक करण की गति को आगे बढ़ाने तथा कार्यरत उद्योग तथा उद्यमियों को उनकी कठिनाईयों से अवगत कराते हुए आशा जतायी कि उद्योग मंत्री के प्रयास से उन समस्याओं का जल्द निराकरण हो सकेगा.

बीआईए की ओर से एसोसिएशन के इंडस्ट्रीयल पॉलिसी सबकमितिट के चेयरमैन संजय गोयनका द्वारा राज्य के उद्योग तथा औद्योगिकरण पर एक विस्तृत स्मार-पत्र मंत्री को सौपा गया.

इस अवसर पर पिछले एक वर्षों में राज्य में उद्योग तथा औद्योगिकरण की दिशा में सरकार द्वारा किए गये पहल एवं उपलब्धियों पर एक डाक्युमेंटरी फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया.

एसोसिएशन ने महासचिव आशीष रोहतगी ने धन्यवाद ज्ञापन दिया जबकि मंच का संचालन एसोसिएशन के सदस्य महेश जालान जी ने किया. इस अवसर पर उपाध्यक्ष अरबिन्द कुमार सिंह, सुबोध कुमार गोयल, भरत अग्रवाल, कोषाध्यक्ष मनीष कुमार तिवारी, पूर्व अध्यक्ष केपीएस केशरी, रामलाल खेतान, पूर्व उपाध्यक्ष जीपी सिंह, सुनील कुमार सिंह के साथ साथ एसोसिएशन के अनेक सदस्य तथा राज्य के अन्य औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधि भी उपस्थित रहे.