‘यास’ ने रुलाया किसानों को बदहाली के आंसू, लाखों का प्याज बर्बाद

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| चक्रवाती तूफान ‘यास’ के कारण राज्य के अधिकतर जिलों में 26 मई से रुक-रुककर बारिश हो रही है. इस बारिश ने किसानों को बदहाली के आंसू रुला दिए हैं.

तूफान ‘यास’ की वजह से राजधानी पटना से सटे खुशरूपुर प्रखंड के किसानों को लाखों का नुकसान हुआ है. खुशरूपुर प्रखंड, जो सब्जी की खेती के प्रसिद्ध है, के किसान लाखों का प्याज बर्बाद हो जाने की वजह से परेशान हैं. यहां प्याज के साथ ही तैयार हरी सब्जियां भी इस बारिश के कारण पानी में डूब चुकी हैं.

पानी है प्याज का दुश्मन

खुशरूपुर प्रखंड के किसानों ने बताया कि उनके खेतों में प्याज तैयार हो चुका था. वे उसे उखाड़ कर बाजारों में बेचने की तैयारी में थे. इसी बीच तूफ़ानी बारिश के कारण उनकी मेहनत और पूंजी दोनों बर्बाद हो गई.

किसानों ने बताया कि पानी तैयार प्याज का दुश्मन होता है. प्याज पानी के संपर्क में आने से मात्र से सड़ जाता है और यहां तो प्याज पूरा ही पानी में डूब गया है.

किसानों के अनुसार, एक एकड़ में उपजाए गए प्याज से उन्हें लगभग दो लाख रुपये आने की संभावना थी. लेकिन बारिश के कारण खेतों में ही प्याजों का पानी में डूब जाने से अब कुछ भी आना मुश्किल है.

किसानों ने सरकार से की मदद की मांग

किसानों ने सरकार से मांग की है कि उनकी फसलों के बर्बाद होने की स्थिति में सरकार उनकी मदद करे. किसानों के बदहाली का मामला संज्ञान में आने के बाद पटना के डीएम डॉ.चंद्रशेखर सिंह शनिवार को खुद खुसरूपुर पहुंचे और वहां की स्थिति का जायजा लिया.

स्थिति का जायजा लेने के बाद डीएम ने कहा कि जिला कृषि पदाधिकारी समेत पटना जिले के सभी प्रखंड स्तरीय कृषि पदाधिकारी को सर्वेक्षण का निर्देश दिया गया है. फसल क्षति के सर्वेक्षण के आधार पर जल्द ही किसानों को फसल क्षति का उचित मुआवजा दिया जाएगा.
(सौ:एबीपी)