‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ कार्यक्रम में शामिल ‘विश्व नारियल दिवस’ समारोह 2 सितंबर को

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| गुरुवार 2 सितंबर को 23वां “विश्व नारियल दिवस” (World Coconut Day) मनाया जाएगा. इस अवसर पर नारियल विकास बोर्ड, कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के एमआईडीएच प्रभाग के सहयोग से एक वेबिनार का आयोजन होगा. इस वेबिनार का विषय होगा – ‘कोविड 19 महामारी के बीच और उसके उपरांत सुरक्षित, समावेशी, सुदृढ और सुस्थिर नारियल समुदाय का विनिर्माण’.

बता दें, इस वर्ष के ‘विश्व नारियल दिवस’ को भारत की स्वतंत्रता के 75वें वर्षगाँठ के स्मरणोत्सव ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ कार्यक्रम में शामिल किया गया है.

राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित इस वेबिनार को बतौर मुख्य अतिथि केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर संबोधित करेंगे. केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री शोभा करंदलाजे व कैलाश चौधरी और कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के सचिव संजय अग्रवाल भी संबोधित करेंगे.

इस समारोह में सारे नारियल उत्पादक राज्यों से लगभग 500 प्रगतिशील नारियल किसान, कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारीगण, राज्य कृषि / बागवानी विभागों से प्रतिनिधिगण एवं नारियल आधारित उद्यमी भाग लेंगे.

वेबिनर के तकनीकी सत्र में नारियल के कीट-प्रबंधन पर हाल में हुई प्रगति एवं नारियल पानी के मूल्यवर्धन की संभावनाओं पर परिचर्चा होगी. सहभागी किसानों के लिए विचार-विमर्श सत्र की व्यवस्था भी की गई है.

नारियल विकास बोर्ड के तत्वाधान में हर वर्ष विश्व नारियल दिवस मनाया जाता है और इसमें नीति निर्माता, प्रगतिशील किसान, उद्यमी, निर्यातक, केंद्रीय मंत्रालय से वरिष्ठ अधिकारीगण, राज्य कृषि / बागवानी विभागों के प्रतिनिधिगण एवं अन्य हितधारक की सक्रिय सहभागिता होती है.

Also Read| त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव: आज से पहले चरण की प्रक्रिया शुरू

विश्व के सारे नारियल उत्पादक देश 2 सितंबर को “विश्व नारियल दिवस” मनाते हैं. यह दिन 1969 में संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक आयोग (यूएन- ईएससीएपी) के तत्वावधान में स्थापित नारियल उत्पादक देशों का एक अंतरशासकीय संगठन, इंटरनैशनल कोकनट कम्यूनिटी (आईसीसी) का स्थापना दिवस है.

विभाग द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, नारियल दिवस मनाने का उद्देश्य नारियल पर जागरूकता पैदा करना है और इसके ज़रिए इस फसल पर राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय ध्यान केंद्रित कराना है.