गया: पुलिस और ग्रामीणों में हिंसक झड़प

गया (TBN – एजेंसी रिपोर्ट)| गया जिला के बेलागंज प्रखंड (Belaganj Block of Gaya District) के मेन थाना अंतर्गत आढ़तपुर गांव के पास मोरहर नदी में बंदोबस्त घाट के सीमांकन करने गए पुलिस- प्रशासनिक अधिकारियों और ग्रामीणों के बीच मंगलवार को हिंसक झड़प (Violent clashes between police-administrative officers and villagers on Tuesday in Gaya) हो गई. इस झड़प में 9 पुलिसकर्मी और दो दर्जन से अधिक ग्रामीण घायल हो गए. सभी का इलाज स्थानीय प्राइवेट डॉक्टरों द्वारा कराया जा रहा है.

बता दें, खनन विभाग द्वारा मेन थाना के आढ़तपुर गांव के समीप मोरहर नदी में बालू घाट का बंदोबस्ती किया गया है. इस बंदोबस्ती का विरोध स्थानीय ग्रामीणों द्वारा लगातार किया जा रहा है.

पहले भी दो बार घाट के सीमांकन हेतू खनन विभाग एवं अनुमंडल स्तरीय अधिकारी उक्त घाट पर गए थे. लेकिन ग्रामीणों के विरोध के कारण उक्त घाट का सीमांकन नही हो पाया था.

यह भी पढ़ें| फिल्म ‘लाल सिंह चड्ढा’ बैसाखी पर नहीं बल्कि इस दिन होगी रिलीज

मंगलवार को फिर से सदर एसडीओ इंद्रवीर उक्त घाट के सीमांकन के लिए वहां पहुंचे. उनके साथ भारी संख्या में सशत्र बल के जवानों के साथ जिला मुख्यालय सहित जिले के कई थानों के पुलिसकर्मी मौजूद थे.

सीमांकन का कार्य शुरू करते ही ग्रामीणों ने फिर से इसका विरोध करना शुरू कर दिया. धीरे-धीरे यह विवाद बढ़ता गया जिस कारण यह पथराव के रूप में परिणत हो गया.

पथराव को देखते हुए पुलिस ने अपनी रक्षा में पांच राउंड आंसू गैस के गोले दागे. इसी बीच, ग्रामीणों के द्वारा किए गए पथराव में 9 पुलिस कर्मी जख्मी हो गए. साथ ही, पुलिस ने भी ग्रामीणों पर जमकर लाठी बरसाई जिसमें दो दर्जन से अधिक महिला एवं पुरूष गंभीर रूप से जख्मी हो गए. सभी घायलों का इलाज स्थानीय निजी चिकित्सकों के द्वारा किया जा रहा है.

घटना के संबंध में प्रभारी विधि व्यवस्था डीएसपी पीएन शाहू ने बताया कि मोरहर नदी में बंदोबस्त बालू घाट के सीमांकन करने गए पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों पर आढ़तपुर गांव के ग्रामीणों ने रोड़ेबाजी की जिसमें नौ पुलिस कर्मी जख्मी हो गए.

उन्होंने बताया कि घटना में नौ लोगों की गिरफ्तारी की गई है. पथराव के दौरान पुलिस ने आत्मरक्षार्थ पांच राउंड आंसू गैस के गोले दागे.

बताते चलें, पथराव व आंसू गैस दागने की घटना के बाद पुलिस- प्रशासन के द्वारा ग्रामीणों पर की गई बर्बर कार्रवाई से ग्रामीण डरे और सहमे हुए हैं.