1000 से ज्यादा स्टेशनों पर यूजर चार्ज देना होगा, महंगा होगा आपका ट्रेन टिकट

नई दिल्ली / पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | और इस तरह महंगा हो जाएगा आपका ट्रेन टिकट. जिस तरह एयरपोर्ट्स पर यात्रियों से यूजर चार्ज लिया जाता है, उसी तरह देश में कुछ रेलवे स्टेशनों पर यूजर चार्ज लिया जाएगा. यह जानकारी रेलवे बोर्ड के चेयरमैन और सीईओ विनोद कुमार यादव ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी है.

इस बावत नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कान्त ने कहा कि प्राइवेट ट्रेनों का किराया मार्केट के हिसाब से तय किया जाएगा. प्राइवेट ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों को वैल्यू एडेड सर्विस दी जाएगी.

गुरुवार को रेलवे द्वारा की गई घोषणा के अनुसार कुल रेलवे स्टेशनों के 10 से 15 फीसदी स्टेशनों में यूजर चार्ज लिया जाएगा. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन और सीईओ विनोद कुमार यादव ने जानकारी दी कि देश के लगभग 7000 रेलवे स्टेशनों में से 1050 स्टेशनों में यात्रियों का फुटफॉल बढ़ाया जायेगा. इसके बाद स्टेशनों की क्षमता बढ़ाने के लिए उनके पुनर्निर्माण हेतु यात्रियों से यूजर चार्ज लिया जायेगा.

क्या होगा यूजर चार्ज

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन और सीईओ विनोद कुमार यादव के अनुसार यूजर चार्ज एक छोटी राशि होगी जो यात्रियों से टिकट में जोड़कर ली जाएगी. इसके लिए रेलवे जल्द ही नोटिफिकेशन जारी करेगा. यह यूजर चार्ज बड़े रेलवे स्टेशनों और भीड़-भाड़ वाले रेलवे स्टेशनों में ही वसूला जाएगा.

प्राइवेट ट्रेनों का किराया मार्केट के हिसाब से होगा तय

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में उपस्थित नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कान्त ने बताया कि प्राइवेट ट्रेनों का किराया मार्केट के हिसाब से तय किया जाएगा. इसके लिए प्राइवेट ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों को वैल्यू एडेड सर्विस दी जाएगी. उन्होंने बताया कि रेलवे के प्राइवेटाइजेशन से लगभग 30 हजार करोड़ रुपये के निजी निवेश आने की उम्मीद है.

नीति आयोग के सीईओ ने स्पष्ट किया कि रेलवे का निजीकरण नहीं हो रहा है बल्कि निजी कंपनी रेलवे इंफ्रास्ट्रक्चर का इस्तेमाल करेगी. उन्होंने कहा कि जिस तरह प्राइवेट बैंकों के आने से एसबीआई बंद नहीं हुआ या प्राइवेट प्लेयर्स के आने से सरकारी एयर इंडिया बंद नहीं हुआ, उसी तरह प्राइवेट ट्रेन आने से भारतीय रेल बंद नही होगी, बल्कि काम्पिटिशन बढ़ेगा. इससे रेलवे की क्षमता भी बदेगी.