BreakingPatna

मनीष कश्यप को पटना हाईकोर्ट से जमानत, पर जेल से बाहर आने पर अभी संशय

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)|हथकड़ी लगाकर यूट्यूब पर वीडियो अपलोड करने और वायरल करने के मामले में आरोपी बनाए गए बिहार के यूट्यूबर मनीष कश्यप को पटना हाईकोर्ट ने नियमित जमानत (YouTuber Manish Kashyap gets regular bail from Patna High Court) दे दी है. न्यायमूर्ति सुनील कुमार पंवार (Justice Sunil Kumar Panwar) की एकलपीठ ने मनीष कश्यप की ओर से दायर नियमित जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए यह निर्देश दिया. बिहार में दर्ज सभी मामलों में मनीष कश्यप को जमानत मिल गई है, लेकिन मनीष कश्यप के जेल से बाहर आने पर संशय बना हुआ है.

हथकड़ी पहने हुए तस्वीर शेयर करने का आरोप

मनीष कश्यप पर आरोप है कि उन्होंने एक व्यक्ति को हथकड़ी लगाकर पुलिस हिरासत में ट्रेन में ले जाते हुए एक फोटो यूट्यूब पर अपलोड किया था. इस मामले को लेकर बिहार की आर्थिक अपराध इकाई ने 12 मार्च 2023 को मनीष कश्यप के खिलाफ एफआईआर संख्या 5/2023 दर्ज की थी, जिसमें उन्होंने जमानत याचिका दायर की थी.

जेल से बाहर आने पर अभी भी संशय

मनीष कश्यप की जेल से रिहाई को लेकर अलग-अलग दावे किए जा रहे हैं. मनीष कश्यप के भाई ने स्थानीय मीडिया को बताया है कि मनीष गुरुवार को जेल से रिहा हो सकते हैं. हालाँकि, मनीष कश्यप को तमिलनाडु में उनके खिलाफ दर्ज मामले में जमानत नहीं दी गई है. ऐसे में इस मामले में जमानत मिलने के बाद भी मनीष कश्यप जेल से बाहर नहीं आ पाएंगे. हालांकि, बिहार में दर्ज दो मामलों में मनीष को पटना हाई कोर्ट से जमानत मिल चुकी है.

बेतिया कोर्ट से जमानत मिल गयी है

मनीष को पहले ही सभी मामलों में पटना सिविल कोर्ट से जमानत मिल चुकी थी. बेतिया कोर्ट से जमानत भी मिल गयी थी. एक मामला पटना हाई कोर्ट में लंबित था, जिसमें आज जमानत मिल गई है. अब मनीष के खिलाफ बिहार में कोई ऐसा मामला नहीं है जिसमें उन्हें जमानत लेनी पड़े. ऐसे में यह तय था कि वह जेल से रिहा हो जायेंगे, लेकिन बिहार के बाहर दर्ज मामले में उन्हें जमानत लेनी होगी.

परिवार में उत्सव का माहौल

मनीष कश्यप के चैनल सचतक के मुताबिक, अब पटना हाई कोर्ट से जमानत के कागजात सिविल कोर्ट में जाएंगे. उसके बाद कल यानी गुरुवार को सिविल कोर्ट में जमानत भरी जाएगी. फिर उसे सिविल कोर्ट से बेउर जेल वापस बुला लिया जायेगा. इसके बाद उन्हें रिहा कर दिया जाएगा. मणि द्विवेदी के मुताबिक मनीष कश्यप शुक्रवार को जेल से बाहर आ सकते हैं. सोशल मीडिया पर ऐसी खबर आने के बाद मनीष कश्यप के परिवार में जश्न का माहौल है. इसके साथ ही मनीष कश्यप के फैंस भी अपने-अपने अंदाज में खुशी जाहिर कर रहे हैं.

मार्च में किया था सरेंडर

मनीष कश्यप ने इसी साल 18 मार्च को तमिलनाडु के फर्जी वीडियो मामले में सरेंडर किया था. इसके बाद वह कुछ दिनों तक मदुरै जेल और फिर बेउर में बंद रहे. तमिलनाडु में बिहार के मजदूरों पर हमले का फर्जी वीडियो शेयर करने पर यूट्यूबर मनीष कश्यप की मुश्किलें बढ़ गई थीं. इस मामले में बिहार पुलिस की आर्थिक अपराध इकाई ने मनीष कश्यप के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी. इस मामले में जब छापेमारी शुरू हुई तो गिरफ्तारी के डर से मनीष कश्यप कई दिनों तक बिहार छोड़कर भाग गया था. उसकी तलाश में कई जगहों पर छापेमारी की गई.

18 मार्च को जब बेतिया पुलिस ने एक अन्य मामले में मनीष के घर की जब्ती शुरू की तो उसने स्थानीय थाने में आत्मसमर्पण कर दिया. उसी दिन पटना से ईओयू की टीम ने उन्हें अपने मामले में हिरासत में ले लिया था. उसे रिमांड पर लेकर पूछताछ की गयी और जेल भेज दिया गया. मनीष कश्यप के सरेंडर करने के तुरंत बाद तमिलनाडु पुलिस की टीम पटना पहुंची. 30 मार्च को तमिलनाडु पुलिस उसे ट्रांजिट रिमांड पर ले गई. हालांकि, अगस्त में उन्हें वापस पटना लाया गया, जिसके बाद बेतिया कोर्ट ने मनीष को बिहार जेल में रखने का आदेश दिया. तब से मनीष कश्यप पटना के बेउर जेल में बंद हैं.