राज्य में खाद की कोई कमी नहीं – कृषि निदेशक

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राज्य के कृषि निदेशक ने कहा है कि रबी 2020-21 मौसम में यूरिया की माह अक्टूबर से दिसम्बर तक 7.50 लाख मे0ट0 की आवश्यकता के विरूद्ध भारत सरकार द्वारा 7.30 लाख मे0ट0 उपलब्ध कराया गया है. माह जनवरी में 2.20 लाख मे0ट0 की आवश्यकता के विरूद्ध भारत सरकार द्वारा 2.20 लाख मे0ट0 का आवंटन किया गया है जिसके विरूद्ध 21 जनवरी, 2021 तक 1.64 लाख मे0ट0 (अर्थात् 75 प्रतिशत) है.

उन्होंने कहा कि इससे स्पष्ट है कि राज्य में खाद की कोई कमी नहीं है. खाद की माँग तथा आवश्यकता का विश्लेषण कर विभाग हर जिला को पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध कराती है. किसानों को यह खाद सही मुल्य पर मिले इसके लिए विभाग द्वारा सतत् निगरानी रखा जा रहा है तथा समाचार-पत्रों में विज्ञापन प्रकाशित कर किसानों को जागरूक किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि सभी जिला कृषि पदाधिकारी भी नियमित रूप से छापामारी कर दोषियों पर कड़ी करवाई कर रहे हैं. वर्ष 2020-21 में अभी तक कुल 3005 छापामारी की गई है, जिसमें से 750 विक्रेताओं की अनुज्ञप्ति निलंबित, 265 अनुज्ञप्ति रद्द, 85 पर प्राथमिकी तथा 1050 विक्रेताओं से स्पष्टीकरण की माँग की गई है. सभी जिलों में उर्वरक निगरानी समिति की बैठक जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में लगातार की जा रही है, जिसमें खाद की बिक्री, मूल्य एवं उपलब्धता की नियमित समीक्षा की जाती है.

कृषि निदेशक ने कहा कि सीमावर्ती जिलों में उर्वरकों की तस्करी को रोकने तथा कालाबाजारी पर लगाम लगाने हेतु इन जिलों के जिला पदाधिकारियों को भी सूचित किया गया है. मुख्यालय स्तर से भी जाँच दल गठित कर सभी जिलों में उर्वरक की निगरानी हेतु भेजी जा रही है. विभाग से यह सख्त निदेश है कि हर हाल में उर्वरकों की बिक्री पॉस मशीन से की जाये, जिसके लिए किसान को रसीद भी दिया जाता है. विभाग द्वारा समय-समय पर प्रेस विज्ञप्ति जारी कर पॉस द्वारा बिक्री एवं रसीद प्राप्त करने के लिए जागरूक करने का प्रयास किया गया है.

आपने यह खबर पढ़ी क्यालालू यादव की तबीयत बिगड़ी, फेफड़ों में इंफेक्शन, सांस लेने में दिक्कत

कृषि निदेशक ने बताया कि उर्वरक की कालाबाजारी/मूल्य नियंत्रण पर विभाग सजगता से निगरानी करता है. इस मामले में दोषी पाये जाने वाले खुदरा/थोक विक्रेताओं पर कड़ी कारवाई की जाती है. मुख्यालय स्तर पर भी स्थानीय प्रशासन के सहयोग से राज्य स्तर पर कड़ी निगरानी तथा नियंत्रण किया जाता है, जिससे किसानों को खाद की उपलब्धता में कोई कठिनाई न हो.

कृषि निदेशक ने कहा कि सभी किसानों को यह पुनः सूचित करना है कि सभी जिलों में उर्वरक पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है. किसी भी कठिनाई या शिकायत की स्थिति में किसान कृषि निदेशालय की दूरभाष सं0 0612-2200814 पर एवं जिला स्तर पर जिला पदाधिकारी/जिला कृषि पदाधिकारी से संपर्क कर सकते हैं.