राज्य में किसी IPS अधिकारी की कोरोना से पहली मौत, पटना एम्स में थे भर्ती

पूर्णियाँ / पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | बिहार में कोरोना का कहर लगातार बढ़ रहा है और यह महामारी अपनी चपेट में लेकर लोगों को मौत की नींद भी सुला रहा है. इसी कड़ी में शनिवार देर रात एक सीनियर आईपीएस अधिकारी की कोरोना से मौत हो गई. कोरोना से बिहार में ये सबसे बड़े पुलिस अधिकारी की पहली मौत है. वैसे उनकी मौत राज्य में कोरोना से होने वाली 991वीं मौत है.

पूर्णियाँ में आईजी के पद पर स्थापित 59 वर्षीय आईपीएस विनोद कुमार का निधन पटना के एम्स में कोरोना संक्रमण के कारण शनिवार देर रात 11 बजे हो गई. उन्हें यहां 16 अक्टूबर को भर्ती कराया गया था. लेकिन यहां उनकी तबीयत लगातार बिगड़ती गई थी. उनकी हालत बहुत ज्यादा बिगड़ पर उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था.

बिहार पुलिस सर्विस जॉइन करने वाले आईपीएस विनोद कुमार 2011 में आईपीएस बनाए गए थे. वैसे उन्हें आईपीएस का बैच 2001 में मिला था. वो पूर्णिया रेंज के पहले आईजी थे. उनकी मौत की खबर मिलते ही प्रशासनिक खेमे में शोक की लहर दौड़ गई तथा पूर्णिया के पुलिस मेंस एसोसिएशन और पुलिस पदाधिकारियों में शोक व्याप्त है. पूर्णियाँ आईजी ऑफिस के एक स्टाफ के अनुसार 3 दिन पहले तक वे ड्यूटी पर थे और फाइल में सिग्नेचर वगैरह किया था.

20 अगस्त 2019 को आईपीएस विनोद कुमार को पूर्णिया आईजी के पद पर पदस्थापित किया गया था. शुक्रवार 16 अक्टूबर को उनका कोरोना जांच किया गया था जिसमें वो पॉजिटिव आए थे. इसके बाद उन्हें उसी दिन पटना एम्स लाकर भर्ती कराया गया था. उन्हें डाइबिटीज की बीमारी भी थी.