सुशील मोदी ने कोरोना गाइडलाइंस को फॉलो नहीं किया

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क) | 27 अक्टूबर को पटना एम्स से छुट्टी मिलने के बाद उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कोरोना गाइडलाइंस का उल्लंघन करते हुए दूसरे ही दिन एक रोड शो में भाग लिया. एसिम्टोमेटिक होने के सुशील मोदी को 27 अक्टूबर को एम्स ने छुट्टी दी थी. आईसीएमआर की गाइडलाइन के अनुसार उन्हें छुट्टी देकर घर में आराम करने की सलाह दी गई थी.

बता दें कि एम्स से छुट्टी मिलने के बाद दूसरे ही दिन सुशील कुमार मोदी गुरुवार को सीतामढ़ी में रोड शो में शामिल हुए. गाइडलाइंस के अनुसार उन्हें 10 दिनों तक होम आइसोलेशन में रहना चाहिए था.

क्या कहती है आईसीएमआर गाइडलाइन

आईसीएमआर की गाइडलाइन के अनुसार अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद, कोरोनावायरस मरीज में लक्षण रहे या नहीं, उसे 10 दिनों तक होम आइसोलेशन में रहना जरूरी होता है. एसिम्टोमेटिक मरीज घर से 10 दिनों के बाद ही निकल सकता है क्योंकि 9 दिनों के बाद कोरोना वायरस (Covid-19) इनफेक्टिव नहीं रहता और वह कम्युनिटी के लिए खतरनाक नहीं होता. इस स्थिति में 10वें दिन से कोरोना वायरस का रिप्लिकेशन बंद हो जाता है तथा मरीज को टेस्ट की भी जरूरत नहीं होती है. साथ ही कोरोना विशेषज्ञों के अनुसार अस्पताल से छूटने के बाद यदि मरीज को 3 दिन तक लगातार बुखार नहीं आया और उसे 4 दिनों तक ऑक्सीजन की जरूरत जरूरत नहीं पड़ी हो, तब उसे रिकवर माना जाता है.

बताते चलें कि उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने गत 22 अक्टूबर को अपने कोरोना पाज़िटिव होने की सूचना एक ट्वीट के द्वारा दिया था. उसी दिन वो पटना एम्स में भर्ती भी हो गए थे.