राज्य की पहली महिला जज इंदु प्रभा सिंह का निधन

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| पटना हाईकोर्ट की पहली महिला जज जस्टिस इंदु प्रभा सिंह का बीती रात निधन हो गया. वे 77 वर्ष की थी और पिछले 21 दिनों से राजधानी पटना के एक निजी अस्पताल में आईसीयू में भर्ती थी.

पटना हाईकोर्ट के इतिहास में जस्टिस इंदु प्रभा सिंह को प्रथम महिला जज (Justice Indu Prabha Singh, the first woman judge of Patna High Court) होने का गौरव हासिल था. गुरुवार रात लंबी बीमारी के बाद उन्होंने प्राण त्याग दिए. जस्टिस इंदू प्रभा सिंह के निधन पर पूर्व न्यायाधीशों और हाईकोर्ट के वकीलों ने शोक जाहिर किया है.

जस्टिस इन्दु प्रभा सिंह का जन्म मुजफ्फरपुर जिले के कमरथु गांव में हुआ था. उनके पिता स्व. महेश्वर सिंह जाने-माने अधिवक्ता एवं लोक अभियोजक थे.

जस्टिस इंदु प्रभा सिंह ने अपनी शिक्षा मुजफ्फरपुर तथा पटना में प्राप्त की थी. 1971 से उन्होंने पटना हाईकोर्ट में वकालत शुरू किया था और हाईकोर्ट में बतौर गवर्नमेंट प्लीडर भी काम किया.

वे 1990 में बिहार की पहली महिला न्यायमूर्ति बनी. उस वक्त बिहार का विभाजन नहीं हुआ था. वे 17 साल तक पटना हाईकोर्ट में कार्यरत रहीं और 62 साल की उम्र में 2007 में रिटायर हुई. अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने कई अहम फ़ैसले सुनाये.

यह भी पढ़ें| पटनावासियों के लिए आज खुशियों की सौगात का दिन

जस्टिस इंदु प्रभा सिंह का विवाह शुम्भा ड्योढ़ी निवासी आनंद किशोर सिंह से हुआ था. उनके पति का पहले ही देहांत हो चुका है.

उनकी बेटी सोमा सिंह ने बताया कि उनकी मां जस्टिस इंदु प्रभा सिंह पिछले दो सप्ताह से कोमा में थी. इनका इलाज पटना के रूबन अस्पताल में चल रहा था. लेकिन गुरुवार रात 8 बजे उनका कार्डियक अरेस्ट होने से निधन हो गया.

उन्होंने बताया कि उनकी मां पूरे प्रदेश के लिए एक मिसाल थी और नारी सशक्तिकरण का बहुत बड़ा उदाहरण थी.