खाद्य कीमतों में तेज वृद्धि, खुदरा महंगाई दर अगस्त महीने में बढ़कर 7 फीसदी पहुंची

नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| सोमवार को जारी सरकारी आंकड़ों के अनुसार, खाद्य कीमतों में तेज वृद्धि के कारण भारत की खुदरा मुद्रास्फीति अगस्त में बढ़कर 7 प्रतिशत हो गई, जो पिछले महीने में 6.71 प्रतिशत थी.

खुदरा महंगाई लगातार आठवें महीने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के टॉलरेंस बैंड से ऊपर रही है. लगातार आठवें महीने हेडलाइन मुद्रास्फीति 6 प्रतिशत से ऊपर आने के साथ, आरबीआई अपने मुद्रास्फीति जनादेश को पूरा करने में विफल होने के कगार पर है.

मुद्रास्फीति को 2-6 प्रतिशत के दायरे में रखने के लिए आरबीआई को अनिवार्य किया गया है. यदि औसत मुद्रास्फीति लगातार तीन तिमाहियों तक 2-6 प्रतिशत के दायरे से बाहर रहती है तो आरबीआई को अपने जनादेश में विफल माना जाता है.

खुदरा खाद्य मुद्रास्फीति अगस्त में बढ़कर 7.62 प्रतिशत हो गई, जबकि पिछले महीने यह 6.75 प्रतिशत दर्ज की गई थी. सब्जियों के दामों में तेज उछाल आया है. सब्जियों की महंगाई अगस्त में बढ़कर 13.23 फीसदी हो गई.

अगस्त में, शहरी क्षेत्रों की तुलना में ग्रामीण क्षेत्रों में कीमतों में वृद्धि तेज थी. ग्रामीण मुद्रास्फीति अगस्त में बढ़कर 7.15 प्रतिशत हो गई, जो पिछले महीने में 6.8 प्रतिशत थी. सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय (MoSPI) के राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, शहरी मुद्रास्फीति जुलाई 2022 में 6.49 प्रतिशत से बढ़कर अगस्त में 6.72 प्रतिशत हो गई.

यह भी पढ़ें| न मुहिम रुकेगी न ग्राफ उपर चढे़गा, फिर क्या होगा नीतीश कुमार का….!!

साप्ताहिक रोस्टर पर एनएसओ, एमओएसपीआई के फील्ड ऑपरेशंस डिवीजन के फील्ड स्टाफ द्वारा व्यक्तिगत यात्राओं के माध्यम से सभी राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों को कवर करने वाले चयनित 1114 शहरी बाजारों और 1181 गांवों से मूल्य डेटा एकत्र किया जाता है.

अगस्त 2022 के महीने के दौरान, एनएसओ ने 99.9 फीसदी गांवों और 98.4 फीसदी शहरी बाजारों से कीमतें एकत्र कीं, जबकि बाजार-वार कीमतों की रिपोर्ट ग्रामीण के लिए 89.6 फीसदी और शहरी के लिए 92.8 फीसदी थी.