चयनित शिक्षकों को 23 फरवरी से मिलगा नियुक्ति पत्र : शिक्षा मंत्री

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)|राज्य के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी (Education Minister Vijay Kumar Choudhary) ने कहा है कि नियुक्ति प्रक्रिया के दौरान चुने गए अभ्यर्थियों को आगामी 23 फरवरी से शिक्षक की नियुक्ति पत्र (Selected teachers will get appointment letter from February 23) दी जाएगी. उन्होंने मंगलवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में यह बात कही.

मंत्री ने कहा कि शिक्षक नियोजन 2019-20 अन्तर्गत जिलों से प्राप्त कुल 90,762 रिक्तियों के लिए काउंसलिंग के माध्यम से नियुक्ति की प्रक्रिया अपनाई गई. इसके लिए प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय चक्र में नियोजन इकाइयों द्वारा अभ्यर्थियों की काउंसलिंग कराई गयी थी.

42,000 अभ्यर्थियों का चयन

मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि तीनों चक्र के काउंसलिंग के बाद लगभग 42,000 अभ्यर्थियों का चयन किया गया है. नियोजन के लिए निर्गत अधिसूचनाओं के अनुसार चयनित अभ्यर्थियों को उनके सभी प्रमाणपत्रों के सत्यापन के उपरांत नियुक्ति पत्र दिया जाना था.

वर्तमान में कोविड एवं इण्टरमीडिएट तथा मैट्रिक परीक्षा संचालित रहने के कारण सभी प्रमाणपत्रों के सत्यापन में अधिक समय लगने की संभावना है. इस स्थिति में शिक्षक पात्रता परीक्षा (CTET-BETET) के प्रमाणपत्र के सत्यापन के आधार पर एवं अभ्यर्थियों से शपथ-पत्र प्राप्त कर 23 फरवरी से नियुक्ति पत्र निर्गत किये जाने का निर्णय लिया गया है.

यह भी पढ़ें| गया: पुलिस और ग्रामीणों में हिंसक झड़प

शिक्षा मंत्री ने कहा कि नियुक्ति पत्र निर्गत किये जाने के बाद चयनित अभ्यर्थी को विद्यालय में योगदान की तिथि से वेतन इत्यादि दिया जाएगा. योगदान के बाद ऐसे अभ्यर्थी, जिनके प्रमाणपत्रों का सत्यापन पूर्ण हो चुका है, का भुगतान नियमानुसार शुरू हो जाएगा. साथ ही ऐसे अभ्यर्थी, जिनके प्रमाणपत्रों का सत्यापन नहीं हो सका है, उनके वेतन का भुगतान प्रमाणपत्रों के सत्यापन के बाद किया जाएगा.

उन्होंने बताया कि राज्य के बाहर अवस्थित संस्थानों द्वारा निर्गत प्रमाणपत्रों के सत्यापन के लिए राज्य स्तर पर पदाधिकारियों को नामित करते हुए इस कार्य को समयबद्ध तरीके से पूर्ण करा लिया जाएगा.

562 अभ्यार्थियों के शिक्षक पात्रता परीक्षा प्रमाणपत्र फर्जी

उन्होंने कहा कि शिक्षक पात्रता परीक्षा के लगभग 95 प्रतिशत प्रमाणपत्रों का सत्यापन किया जा चुका है. विभाग द्वारा समीक्षा के क्रम में यह पाया गया है कि 562 अभ्यार्थियों के शिक्षक पात्रता परीक्षा प्रमाणपत्र फर्जी पाए गए हैं. जिला द्वारा ऐसे अभ्यार्थियों के विरुद्ध वैधानिक कार्रवाई की जा रही है.

यह भी पढ़ें| बनारस रेलवे स्टेशन पर सोने के बिस्कुट बरामद, एक गिरफ्तार

मंत्री ने बताया कि शिक्षकों की नियुक्ति के बाद, नियोजन इकाईवार अभ्यार्थियों की अंतिम मेधा सूची, चयनित सूची और नियुक्त शिक्षकों के सभी प्रमाणपत्र विभागित पोर्टल पर अपलोड करने की कार्रवाई की जा रही है.

(इनपुट-एजेंसी)