हाजीपुर: पूर्व मध्य रेल के मुख्यालय में क्षेत्रीय हिंदी वाक् प्रतियोगिता का आयोजन

हाजीपुर (TBN – The Bihar Now डेस्क)| शुक्रवार को पूर्व मध्य रेल मुख्यालय (East Central Rail Headquarter, Hajipur) में हिंदी वाक् प्रतियोगिता (Regional Hindi Speech Competition) का आयोजन संपन्न हुआ. इस प्रतियोगिता में विभिन्न विभागों/मंडलों के अधिकारियों/कर्मचारियों ने भाग लिया.

गौरतलब है कि पूर्व मध्य रेल मुख्यालय में 21 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक चलने वाली तीन दिवसीय क्षेत्रीय हिंदी प्रतियोगिताओं का आयोजन कराया जा रहा है.

इस प्रतियोगिता के लिए पूर्व मध्य रेल के सभी विभागों/मंडलों को पूर्व में ही सूचित किया गया था. हिंदी वाक् प्रतियोगिता के लिए पहले ही 02 विषय निश्चित किए गए थे – ‘आजादी का अमृत महोत्सव’, और ‘भ्रष्टाचार हटाओ, खुशहाली लाओ’.

इस प्रतियोगिता स्थल पर सभी प्रतिभागियों को किसी एक विषय पर बोलना था. प्रतिभागियों के निर्णायक मंडल में सूर्यनारायण, उप मुख्य कार्मिक अधिकारी (आईआरएंडडब्ल्यू) एवं राजपति झा, उप मुख्य परिचालन प्रबंधक (सामान्य) शामिल थे.

पूर्व मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि इस प्रतियोगिता में कुल 06 पुरस्कार हैं : प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं सांत्वना के 03 (तीन). प्रथम पुरस्कार पाने वाले प्रतिभागी को रेलवे बोर्ड द्वारा अखिल रेल स्तर पर आयोजत प्रतियोगिताओं में पूर्व मध्य रेल की ओर से भेजा जाएगा.

यह भी पढ़ें| जैविक खेती एवं बीज प्रमाणन को बढ़ावा देने के लिए एक दिवसीय सेमिनार का हुआ उद्घाटन

उन्होंने बताया कि पूर्व मध्य रेल के राजभाषा विभाग की ओर से राजभाषा हिंदी के प्रयोग-प्रसार के लिए समय-समय पर विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है. इन प्रतियोगिताओं से रेल कर्मियों के बीच हिंदी में काम करने की ललक बढ़ती है.

आज के प्रतियोगिता में विभिन्न मंडलों सहित मुख्यालय के कर्मचारी प्रतिभागी के रूप में उपस्थित थे. निर्णायक मंडल के सदस्यों ने मौके पर ही इस प्रतियोगिता का परिणाम घोषित किया. इसके अनुसार संतोष कुमार तिवारी, टेक्नी-1/डीडीयू को प्रथम स्थान, राजीव रंजन कुमार, टेक्नी-1/हरनौत को द्वितीय स्थान एवं श्रीमती नीतू वर्मा, सीसेइंजी/डीडीयू को तृतीय स्थान प्राप्त हुआ.

मौके पर उपस्थित अधिकारियों ने प्रतिभागियों को शुभकामनाएं दीं. साथ ही रेलवे बोर्ड स्तर पर जाने के लिए बेहतर तैयारी एवं प्रदर्शन करने को कहा. कार्यक्रम का संचालन व धन्यवाद ज्ञापन राजभाषा अधिकारी अनिल कुमार शर्मा द्वारा किया गया.