झूठ बोलने में पीएम का मुकाबला मैं नहीं कर सकता: राहुल गांधी

बाल्मीकिनगर (इमरान अजीज – The Bihar Now रिपोर्ट) | कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज बाल्मीकिनगर के दौनाहा में एक चुनावी सभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला बोला. उन्होंने मोदी पर आरोप लगाया कि नोटबंदी और तालाबंदी का मकसद छोटे किसानों, कारोबारियों और मजदूरों को तबाह करना था और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि झूठ बोलने में उनका मुकाबला वह नहीं कर सकते हैं.

बाल्मीकिनगर में एक रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि अब प्रधानमंत्री अपने भाषणों में यह नहीं कहते हैं कि वे दो करोड़ युवाओं को नौकरी देंगे. “मोदी जानते हैं कि वे झूठ बोल रहे हैं और लोग भी इसे जानते हैं. राहुल गांधी ने कहा कि मैं गारंटी देता हूं, अगर प्रधानमंत्री यहां आते हैं और कहते हैं कि वह दो करोड़ नौकरियां देंगे, तो भीड़ उनका पीछा करेगी. राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी के चंपारण की चीनी से यहां आकर चाय पीने की बात भी झूठी निकली.

राहुल ने कहा कि कांग्रेस ने देश को दिशा दी, मनरेगा दिया, किसानों का कर्ज माफ किया. उन्होंने कहा कि “हम जानते हैं कि देश को कैसे चलाना है, किसानों के साथ खड़े रहना है और रोजगार पैदा करना है, लेकिन हाँ, हमारे पास एक चीज़ की कमी है – हम झूठ नहीं बोलते हैं. झूठ बोलने पर हम उसका (पीएम) मुकाबला नहीं कर सकते … मैं वह दिन देखना चाहता हूं जब लोग नौकरी की तलाश में पटना आयें”.

राहुल गांधी ने कृषि एवं रोजगार में क्षेत्र में मोदी और नीतीश दोनों को विफल बताया. राहुल गांधी ने कहा कि दशहरा में अमूमन रावण का पुतला दहन किया जाता रहा है. लेकिन मुझे दुःख है कि इस बार के दशहरा में पंजाब के किसानों के पीएम नरेंद्र मोदी का पुतला दहन किया. कारण आज हिन्दुस्तान का किसान पिसा जा रहा है, दुख की बात है देश के प्रधानमंत्री का दशहरा पर पुतला जलाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि आम किसानों को उनके फसल-गल्ला का उचित मूल्य नहीं मिल रहा है जिससे किसान त्रस्त हैं.

पूर्व कांग्रेस प्रमुख ने मोदी सरकार पर बड़े उद्योगपतियों का पक्ष लेने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी के विमुद्रीकरण और तालाबंदी का मकसद एक ही था. इसका उद्देश्य छोटे किसानों, मजदूरों, छोटे व्यवसायों, व्यापारियों और मजदूरों को नष्ट करना था. एनडीए सरकार में देश में बड़े उद्योगपतियों में अडानी और अंबानी जैसे लोगों को तरजीह दी गई.

राहुल गांधी ने मजदूरों और युवाओं से इस चुनाव में हिसाब चुकता करने का अपील की. उन्होंने कहा कि बिहार के लोग ख़ुशी से पलायन नहीं कर रहे हैं. लोग इसलिए बाहर जा रहे हैं क्योंकि बिहार को नष्ट कर दिया गया है.

उन्होंने कहा कि जब महात्मा गांधी दुनिया की सबसे बड़ी शक्ति इंग्लैंड से लड़ने जा रहे थे तब हरियाणा, केरल या यूपी नहीं गए. गांधी जी चंपारण आए, बिहार आए क्योंकि गांधी जी हिन्दुस्तान को समझते थे. उन्हें मालूम था कि लड़ाई बिहार से शुरू होगी. ये आपकी जगह है चंपारण. आंदोलन और सत्याग्रह की धरती है चंपारण जिसको मैं नमन करता हूं. राहुल गांधी के द्वारा बिहार में बदलाव के लिए महागठबंधन को समर्थन और वोट की अपील की गई.