Big NewsBreakingफीचर

‘अग्निपथ’ के विरोध में सुबह से ही बिहार में संग्राम जारी, उपमुख्यमंत्री ने यह कहा

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| केंद्र सरकार की ‘अग्निपथ योजना’ (Agnipath Scheme) को लेकर गुरुवार सुबह से ही राज्य में युवाओं द्वारा हंगामा किया जा रहा है. आक्रोशित युवाओं ने कई ट्रेनों में तोड़फोड़ के साथ फूंक डाला है. प्रदर्शन का सबसे ज्यादा असर आरा और छपरा में दिख रहा है. वैसे 17 जिलों में प्रदर्शन की आग फैल चुकी है. प्रदर्शन कर रहे युवाओं की मांग है कि सरकार अपना फैसला वापस ले.

बता दें, इस योजना के विरोध बुधवार को भी आक्रोशित युवाओं ने मुजफ्फरपुर, गया, भागलपुर, आरा, बक्सर और बेगूसराय में प्रदर्शन किया था. मुजफ्फरपुर में सेना भर्ती बोर्ड कार्यालय के पास 4 घंटे बवालकर तोड़फोड़ और आगजनी की.

बीजेपी विधायकों पर हमले

प्रदर्शन के दौरान आक्रोशित युवाओं ने बीजेपी के 2 विधायकों पर हमले भी किए हैं. छपरा सदर के बीजेपी विधायक डॉ. सी एन गुप्ता के घर पर युवाओं ने तोड़फोड़ की. वहीं, वारिसलीगंज की विधायक अरुणा देवी पर नवादा में हमला किया गया है. हमले के दौरान विधायक गाड़ी में ही मौजूद थीं. वो बाल-बाल बच गईं.

बीजेपी ऑफिस में लगाई आग

हिंसक प्रदर्शन कर रहे छात्रों और युवाओं की भीड़ ने नवादा में भाजपा कार्यालय पर धावा बोल दिया और उसमें आग लगा दी. नवादा के अतौआ में बीजेपी कार्यालय में आग लगा दी गई है.

बताया जाता है कि हजारों की संख्या में उग्र प्रदर्शनकारियों ने भाजपा कार्यालय की दोनों मंजिलों में आग लगा दी. इस आग से बड़ा नुकसान होने की आशंका जताई जा रही है. भाजपा कार्यालय में आगजनी की सूचना मिलते ही स्थानीय प्रशासन का अमला और दमकल की टीम मौके पर पहुंची. इस घटना को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं में आक्रोश है.

ट्रेनों में लगाई आग

प्रदर्शनकारी युवाओं द्वारा छपरा, कैमूर और गोपालगंज में अब तक 5 ट्रेनों को फूंक दिया गया है. अकेले छपरा में ही 3 ट्रेनों में आग लगाई गई है और 12 ट्रेनों में तोड़फोड़ की गई है. इस दौरान ट्रेन यात्रियों ने भागकर अपनी जान बचाई.

छपरा में उग्र प्रदर्शनकारियों ने सरकारी और निजी संपत्ति को भारी नुकसान पहुंचाया. इस दौरान ट्रेन को खास तौर पर निशाना बनाया गया. यहां 2 पैसेंजर ट्रेनों के साथ एक निरीक्षण वाहन (inspection train) में आग लगा दी गई. बाद में पुलिस ने 8 राउंड फायरिंग की जिसके बाद मामला शांत हुआ और प्रदर्शनकारी भाग गए. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को खदेड़ते हुए एक दर्जन उपद्रवी छात्रों को गिरफ्तार किया.

गोपालगंज के सिधवलिया रेलवे स्टेशन पर गोरखपुर-पाटलिपुत्र एक्सप्रेस ट्रेन में आग लगा दी गई. ट्रेन के कई डिब्बे धूँ-धूँ कर जलने लगे. रेलवे स्टेशन पर अफरा-तफरी मच गई और ट्रेन में सवार यात्रियों ने किसी तरह भागकर अपनी जान बचाई. वहीं, सदर एसडीपीओ, एसडीएम समेत बड़ी संख्या में पुलिस बल के साथ दमकल की एक टीम मौके पर पहुंची और स्थिति को नियंत्रित करने का प्रयास किया.

भभुआ स्टेशन पर खड़ी इन्टरसिटी एक्सप्रेस में आग लगा दिया है, वही आरा स्टेशन में छात्रों ने जमकर तोड़ फोड़ किया है. जहानाबाद, बक्सर, आरा, नवादा, सिवान, छपरा सहित बिहार के कई हिस्सों से खबर आ रही है कि आक्रोशित छात्र एनएच और रेलवे ट्रेक को जाम कर दिया है. इस दौरान छात्रों और पुलिस के बीच झड़प होने कि भी खबर आ रही है. छात्रों के उग्र प्रदर्शन के कारण मध्य बिहार के अधिकांश इलाकों में सड़क और रेल मार्ग पूरी तरह अवरुद्ध हो गया है.

आक्रोशित युवा केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं. प्रदर्शन के कारण रेल यातायात पूरी तरह से ठप हो गया है. आरा में पुलिस को उपद्रवियों पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े. मोतिहारी में भी ट्रेन पर पथराव किया गया है.

प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने सरकार के इस नए नियम को छात्रों के लिए हानिकारक बताया और कहा कि इससे छात्रों की बेरोजगारी बढ़ेगी. उनके अनुसार, सेना में भर्ती की तैयारी कर रहे छात्रों को इस नए नियम से काफी नुकसान होगा.

इस आंदोलन का असर ग्रामीण इलाकों में भी देखने को मिला. मशरक-छपरा मुख्य मार्ग एसएच-90 और सीवान-सीतलपुर मुख्य मार्ग एसएच-73 पर मशरक महाराणा प्रताप चौक पर आगजनी शुरू कर सड़क जाम कर दिया. राजापट्टी स्टेशन पर उग्र प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन रोककर जमकर प्रदर्शन किया.

इस बीच पटना प्रशासन ने बिहार के अलग अलग हिस्सों से तोड़फोड़ की खबर आने के बाद पूरे शहर में अर्लट घोषित कर दिया है. कोचिंग और विश्वविधायल वाले इलाके में अतिरिक्त पुलिस फोर्स भेजा जा रहा है.

जहानाबाद में प्रदर्शन कर रहे एक युवा ने कहा कि हम कड़ी मेहनत करने के बाद सेना में भर्ती होते हैं. PM निर्णय ले रहे हैं कि 4 साल की नौकरी होगी. किस हिसाब से 4 साल की नौकरी होगी क्योंकि 8 महीने की ट्रेनिंग और 6 महीने की छुट्टी होगी तो लगभग 3 साल में हम देश की क्या रक्षा करेंगे. यह निर्णय वापस लेना होगा.

तारकिशोर ने कहा

इधर, बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा है कि “इस योजना को शायद सही तरीके से नौजवान समझ नहीं पाए हैं, या कहीं न कहीं कोई भ्रम की स्थिति है जिस कारण से समस्याएं उतपन्न हो रही है लेकिन धीरे-धीरे ये भ्रम दूर होगा. आपके (युवा) जीवन में सेवा का अवसर आए इसके लिए केंद्र व राज्य सरकारें गंभीर है”. उन्होंने प्रदर्शन कर रहे युवाओं से अपील की कि वे उग्र

क्या है ‘अग्निपथ’ योजना

पिछले 14 जून को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ‘अग्निपथ’ नाम की योजना शुरू करने की घोषणा की. इसमें चार साल के लिए सशस्त्र बलों में युवाओं की भर्ती होगी. योजना के तहत चुने गए युवाओं को ‘अग्निवीर’ कहा जाएगा और इस साल करीब 46 हजार युवाओं को सहस्त्र बलों में शामिल करने की योजना है.

केंद्र की ‘अग्निपथ योजना’ के तहत इस साल 46 हजार युवाओं को सहस्त्र बलों में शामिल किया जाना है. योजना के मुताबिक युवाओं की भर्ती चार साल के लिए होगी और उन्हें ‘अग्निवीर’ कहा जाएगा. अग्निवीरों की उम्र 17 से 21 वर्ष के बीच होगी और 30-40 हजार प्रतिमाह वेतन मिलेगा. योजना के मुताबिक भर्ती हुए 25 फीसदी युवाओं को सेना में आगे मौका मिलेगा और बाकी 75 फीसदी को नौकरी छोड़नी पड़ेगी.