प्रशांत किशोर का जदयू को करारा जवाब

जमुनिया, पश्चिम चम्पारण (TBN – The Bihar Now डेस्क)| प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) का भूत जदयू (JDU) के सिर चढ़कर बोल रहा है. दो दिन भी नही हुए और जदयू के लिए प्रशांत किशोर की पदयात्रा (Prashant Kishor’s padyatra) बर्दाश्त के बाहर हो गई. बचते-बचाते भी, जदयू ने यह जानना चाहा कि प्रशांत किशोर की जन सुराज पदयात्रा का खर्च कौन उठा रहा है.

सोमवार 3 अक्टूबर को जब प्रशांत किशोर पश्चिम चम्पारण के गौनाहा प्रखण्ड (Gaunaha Block of West Champaran) में पदयात्रा पर थे, पटना में जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह (JDU National President Rajeev Ranjan alias Lalan Singh) ने 3500+ किलोमीटर की उनकी पदयात्रा पर होने वाले खर्च का सवाल खड़ा कर दिया.

मंगलवार को पदयात्रा के दौरान गौनाहा प्रखण्ड के जमुनिया गांव पहुंचे प्रशांत किशोर ने ग्रामीणों की एक सभा में इस सवाल का जवाब दिया और नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) की सच्चाई बताई. सभा में मौजूद ग्रामीणों का उत्साह देखने लायक था.

उन्होंने नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा, “2014 में चुनाव हारने के बाद नीतीश कुमार ने दिल्ली आकर कहा कि हमारी मदद कीजिए. 2015 में हमलोगों ने उनको जिताने में कंधा लगाया. अभी 10-15 दिन पहले बुलाकर बोले कि हमारे साथ काम कीजिए, हमने कहा कि ये अब नहीं हो सकता है. एक बार जो लोगों को वादा कर दिया है कि 3500 किमी चलकर गांव-गांव में जाकर लोगों को जगाना है, वही करेंगे. एक बार जनबल खड़ा हो गया, कोई टिकने वाला नहीं है लिखकर रख लीजिए.”

इसे भी पढ़ें| प्रशांत किशोर की पटकथा को समझने के लिए रॉकेट साइंस की जरूरत नहीं : मनोज झा

वहीं, जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह के सवाल का जवाब देते हुए पीके ने कहा “किसी से आजतक पैसा नहीं लिए हैं, अब ले रहे हैं. बिहार में बदलाव के लिए उनसे फीस ले रहे हैं, जिनके लिए अब तक काम किया है, ताकि ये टेंट लगाया जा सके. मेहनत से, अपनी बुद्धि से 10 साल काम किए हैं, दलाली नहीं किए हैं.”

बताते चलें, प्रशांत किशोर की 3500+ किमी लंबी जन सुराज पदयात्रा का मंगलवार 4 अक्टूबर को तीसरा दिन था. प्रशांत किशोर ने पदयात्रियों और स्थानीय लोगों के साथ जमुनिया स्थित पदयात्रा कैंप में आयोजित सर्वधर्म प्रार्थना सभा में भाग लिया. इसके बाद उन्होंने कैंप में ही हाथ के पंखे (बेना) बनाने वाली महिलाओं और उनके परिवारों से बातचीत की और उनकी समस्याओं को सुना.

फ़िलहाल प्रशांत किशोर पदयात्रा के क्रम में अपना ज्यादातर समय लोगों से मिलने-जुलने व उनकी समस्याओं को समझने में लगा रहें हैं. इसी क्रम में उन्होंने थारु समुदाय (Tharu community) के प्रतिनिधियों के साथ जन सुराज (Jan Suraaj Abhiyaan) की सोच पर चर्चा की. गौनाहा प्रखंड के वार्ड सदस्यों ने सरकार की योजनाओं को धरातल पर उतारने में आने वाली परेशानियों को प्रशांत किशोर से साझा किया.

प्रशांत किशोर ने शाम को दुर्गा नवमी के अवसर पर जन सुराज के पदयात्रियों के साथ सहोदरा मंदिर में मां दुर्गा का दर्शन किया और जन सुराज अभियान की सफलता के लिए प्रार्थना की.