Big NewsBreaking

पीएम ने 51 हजार से अधिक नवनियुक्त कर्मियों को दिया नियुक्ति पत्र

हाजीपुर (TBN – The Bihar Now डेस्क)| प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार 28 अक्टूबर को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा देश भर के 37 शहरों में 51 हजार से अधिक नवनियुक्त कर्मियों को नियुक्ति पत्र सौंपा. इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने नवनियुक्त कर्मियों को संबोधित भी किया.

इसी कड़ी में पूर्व मध्य रेल क्षेत्राधिकार के हाजीपुर, पटना, धनबाद एवं पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर में रोजगार मेला समारोह का आयोजन किया गया जहां रेलवे के साथ-साथ अन्य मंत्रालयों के लिए नवनियुक्त कुल 533 कर्मियों को (हाजीपुर में 81, पटना में 133, धनबाद में 173 एवं पं.दीनदयाल उपाध्याय नगर में 147 युवाओं को) नियुक्ति पत्र सौंपे गए. इस आशय की सूचना पूर्व मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी वीरेन्द्र कुमार ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से दी.

इस अवसर पर मुख्यालय, हाजीपुर स्थित वैशाली रेल प्रेक्षागृह में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री, भारत सरकार, पशुपति कुमार पारस, विधायक लखेन्द्र कुमार रौशन एवं विधान पार्षद भूषण राय विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे.

महेन्द्रूघाट, पटना में भारत सरकार के ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री, गिरिराज सिंह, सांसद विवेक ठाकुर, विधायक कुन्दन कुमार एवं बिहार भाजपा के अध्यक्ष सम्राट चौधरी विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे.

रेलवे ऑडिटोरियम, धनबाद में उपभोक्ता, खाद्य, सार्वजनिक वितरण, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे एवं सांसद पी.एन.सिंह जबकि केंद्रीय विद्यालय ऑडिटोरियम, पंडित दीन दयाल उपाध्याय नगर, चंदौली में भारी उद्योग मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पाण्डेय विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे. इस अवसर पर मंत्रीगण द्वारा देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को इस पहल के लिए कोटि-कोटि आभार एवं धन्यवाद ज्ञापित किया. उन्होंने नवनियुक्त कर्मियों को उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामानाएं दीं.

विदित हो कि भारत आजादी के 75 साल पूरे होने का जश्न मना रहा है. इस अवसर पर युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करने एवं नागरिकों का कल्याण सुनिश्चित करने की प्रधानमंत्री की निरंतर प्रतिबद्धता को पूरा करने की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम है. प्रधानमंत्री के निर्देशानुसार, रेलवे सहित अन्य सभी मंत्रालय एवं विभाग मिशन मोड में स्वीकृत पदों की मौजूदा रिक्तियों को भरने की दिशा में काम कर रहे हैं.

मुख्य जनसंपर्क अधिकारी के अनुसार, यह रोजगार मेला, रोजगार सृजन को सर्वोच्च प्राथमिकता देने की प्रधानमंत्री की प्रतिबद्धता को पूरा करने की दिशा में एक कदम है. उम्मीद है कि रोजगार मेला और रोजगार सृजन के लिए एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य करेगा तथा युवाओं को उनके सशक्तिकरण और राष्ट्रीय विकास में भागीदारी के लिए सार्थक अवसर प्रदान करेगा.