लावारिस झोले से मिले इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से सहमें लोग

गया (TBN – The Bihar Now डेस्क)| बिहार के गया (Gaya) जिले में एक घटना चर्चा का विषय बनी हुई है. दरअसल शहर के डेल्हा थाना क्षेत्र के छोटकी नवादा के पास बालाजी कॉलोनी में लोगों को एक संदिग्ध लावारिस झोला मिला. वहीं स्थानीय लोगों ने जब झोले को खोला तो उसमें से इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस (Suspicious Electronic Device ) निकला जिसमें लिखा था कि ज्यादा दिमाग लगाना बंद करें. डिवाइस पर लिखे गये इस शब्द को पढ़कर लोग सहम गए. लोगों द्वारा आनन-फानन में इसकी सूचना गया स्थानीय पुलिस को दी गई.

लोगों की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने जब इस डिवाइस की जांच की तो कुछ नहीं निकला. हालांकि पुलिस भी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस पर लिखे शब्दों को लेकर काफी चितिंत नजर आई. बहरहाल पुलिस इस घटना में शरारती तत्वों का हाथ बताया है.

एक रेलकर्मी, जोगिंदर प्रसाद के घर के बाहर लावारिस स्थिति में एक झोला पड़ा थ. इसमें एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस पर कंकाल की तस्वीर बनाई गई थी. जांच के बाद पुलिस ने बताया कि ये साउंड बॉक्स है.

रेलकर्मी, जोगिंदर प्रसाद ने बताया, ‘सुबह जब मैं घर के बाहर पेपर लेने के लिए निकला तो देखा कि एक लावारिस स्थिति में झोला में इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस रखा हुआ है. इसके बाद इसकी सूचना स्थानीय थाना को दी. इस साउंड बॉक्स के ऊपर एक कंकाल की तरह तस्वीर बनाई गई है. इस पर आपत्तिजनक शब्द लिखे हुए थे’.

Also Read | नीतीश ने दी स्वतंत्रता दिवस पर बिहारवासियों को कई सौगातें

वहीं डेल्हा थानाध्यक्ष ने बताया कि ये करतूत किसी शरारती तत्वों द्वारा अंजाम दिया गया है. साउंड बॉक्स पूरी तरह से खाली था. किसी को डराने के लिए उसके ऊपर कंकाल की तस्वीर लगाकर कुछ शब्द लिखे गए थे. शब्द आपत्तिजनक लिखे हुए जिसका मतलब पता नहीं चल रहा है. उस इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस पर एक सफेद कागज सटाकर उसमें लिखा था ‘ज्यादा दिमाग लगाना बंद कर. अगर मैं खुद से गया तो आतंक मच जाएगा. देर हुआ तो और भयानक और हां ले जाने से पहले गुम्बज की जगह पानी टंकी होना चाहिए’.

बता दें कि बिहार की धार्मिक नगरी गया साल 2013 से आंतकियों के निशाना पर है. आंतकियों के निशाने पर रहने के कारण यहां हर एक छोटी गतिविधि को लेकर पुलिस अलर्ट रहती है. दरअसल इस साल की फरवरी माह में एटीएस की टीम ने स्टेशन रोड में 4 संदिग्धों से पूछताछ की थी. वहीं रेलवे अस्पताल की दीवार पर भी आपत्तिजनक शब्द लिखा हुआ था. पुलिस ने उस शब्द को मिटाया लेकिन आपत्तिजनक शब्द संकेत बहुत कुछ कह रहे थे.