भारत में सिर्फ 250 रुपए में बिक सकती है कोरोना वैक्सीन की एक खुराक

पटना / नई दिल्ली (TBN – The Bihar Now डेस्क)| आज अपने देश के साथ दुनियाभर में कोरोना वायरस (Covid -19) का प्रकोप फैलता ही जा रहा है जिसने मानव के अस्तित्व पर प्रश्न चिन्ह लगा दिया है. फिर भी कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण के बीच इसके वैक्सीन से जुड़ी नित्य कुछ न कुछ अच्छी और सकारात्मक खबरें सामने आ रही हैं.

इसी कड़ी में केंद्र सरकार और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के बीच एक कान्ट्रैक्ट साइन होनेवाला है. यह कान्ट्रैक्ट दोनों के बीच कोरोना वैक्सीन की कीमत को लेकर होने वाला है. सूत्रों के मुताबिक, इस कान्ट्रैक्ट में एक खुराक/डोज वैक्सीन की कीमत 250 रुपये रखी जा सकती है.

मीडिया के एक रिपोर्ट के अनुसार, इस मामले में जुड़े लोगों ने बताया है कि भारत सरकार को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) पर कोरोना वैक्सीन की बड़े पैमाने पर सप्लाई के लिए बहुत सारी उम्मीदें हैं. बता दें कि सोमवार 7 दिसम्बर को सीरम इंस्टीट्यूट ने सरकार को एक फॉर्मल आवेदन दिया है जिसमें उसने एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन कोविशील्ड के इमरजेंसी उपयोग के लिए अनुमति मांगी है.

अदार पूनावाला, जो सीरम इंस्टिट्यूट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) हैं, ने पहले अपने कोरोना वैक्सीन की कीमत ओपन मार्केट में 1000 रुपये प्रति खुराक/डोज बताई थी. लेकिन उन्होंने कहा था कि यदि कोई सरकार ज्यादा सप्लाई चाहती है तो फिर एक कान्ट्रैक्ट के तहत इसकी कीमत कम की जा सकती है.

पहले भारतवासियों को मिलेगी वैक्सीन की सप्लाई

अदार पूनावाला ने पहले यह भी कहा है कि वैक्सीन बनने के बाद सबसे पहली इसकी सप्लाई भारतीयों के लिए होगी क्योंकि सीरम की लिस्ट में भारत पहले नंबर पर है. उन्होंने कहा, “सीरम अन्य देशों में वक्सीन की सप्लाई से पहले भारतीयों के लिए दवा की आपूर्ति पर ज्यादा जोर देगा.”

बताते चले कि सोमवार को कोविशील्ड के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी के लिए DGCI को भेजे अपने आवेदन में सीरम ने कहा लिखा है- क्लीनिकल ट्रायल के चार डाटा से यह सामने आया है कि कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए कोविशील्ड वैक्सीन काफी प्रभावशाली है.” वहीं एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को कहा कि फाइजर और एस्ट्राजेनेका की तरफ से विकसित की गईं वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग की मंजूरी देने के लिए समीक्षा की जा रही है.