Big NewsBreakingPatna

सीसीटीवी फुटेज के आधार पर बीजेपी नेता की मौत लाठी चार्ज से नहीं हुई : पटना एसएसपी

पटना (TBN – The Bihar Now डेस्क)| राजधानी पटना में गुरुवार को बीजेपी के विधान सभा मार्च के दौरान पुलिस लाठीचार्ज में बीजेपी नेता की मौत हो गई. इधर पटना के वरीय पुलिस अधीक्षक ने कहा है कि बीजेपी नेता की मौत लाठी चार्ज से नहीं हुई है. उनका यह बयान मृतक के एक मित्र के कहने के अनुसार सीसीटीवी की जाँच कराने के बाद की गई है.

देर रात सरकार की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि मृतक विजय सिंह के साथी भरत प्रसाद चन्द्रवंशी के बयान के आधार पर इलाक़े के सीसीटीवी की जाँच की गयी.

सीसीटीवी से यह पता चला कि विजय सिंह दोपहर 13:22 बजे गांधी मैदान पटना के जेपी गोलम्बर से निबंधन कार्यालय, छज्जूबाग की तरफ जा रहे थे जो डाँकबंगला रोड से अलग है. 13:27 बजे अपराह्न उसी रास्ते में दुर्गा अपार्टमेन्ट के सामने खाली रिक्शा दिखता है, इसी रिक्शा से वे 13:32 बजे अपराह्ण तारा हॉस्पीटल पहुँचते हैं. घटना स्थल दुर्गा अपार्टमेंट के निकट से तारा हॉस्पीटल जाने में रिक्शा से लगभग 05 मिनट का समय लगता है.

विज्ञप्ति के माध्यम से वरीय पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इससे यह स्पष्ट होता है कि विजय सिंह के साथ घटना 13:22 से 13:27 बजे के बीच छज्जूबाग क्षेत्र में ही हुई है. इस बीच वे डाकबंगला पहुँच भी नहीं सकते थे, जहाँ पर भीड़ को तीतर बितर करने के लिए (लगभग 13 बजे) हल्का बल प्रयोग हुआ था. छज्जूबाग क्षेत्र में कोई पुलिस बल नहीं था. यद्यपि छज्जूबाग में उक्त घटना स्थल सी.सी.टी.वी. कैमरा से आच्छादित नहीं पाया गया, परंतु उससे 50 मीटर पहले कैमरा में उनका आवागमन दिख रहा है.

वरीय पुलिस अधीक्षक के अनुसार यह स्पष्ट होता है की विजय सिंह की मृत्यु पुलिस के लाठी चार्ज से नहीं हुई है. उनके शरीर पर कोई चोट का निशान भी नहीं पाया गया है. वैसे उनकी मृत्यु का वास्तविक कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट होगा.