एनटीपीसी बाढ़ द्वारा 20 ग्रामीण महिलाओं को रोज़गार प्रशिक्षण

बाढ़ (अखिलेश कु सिन्हा – The Bihar Now रिपोर्ट)| सामाजिक रूप से जागरूक कंपनी एनटीपीसी बाढ़ की ओर से गुरुवार को 20 महिला किसानों के लिए तीन दिवसीय आजीविका कार्यशाला का आयोजन किया गया. ये महिला किसान जीविका, पंडारक से जुड़ी हैं.

इस आजीविका कार्यशाला के आयोजन में सभी 20 माहिलाओं को मधुमक्खी पालन एवं शहद उत्पादन की प्रक्रिया के सभी चरणों से अवगत कराया गया और प्रायोगिक कार्यशालाओं के माध्यम से प्रशिक्षित किया गया. माहिलाओं को इस व्यवसाय के व्यापारिक महत्व की भी जानकारी दी गयी और इस व्यवसाय को आजीविका के रूप में अपनाने के लिए प्रेरित किया गया.

यह कार्यशाला टीएम भागलपुर विश्वविद्यालय के प्रशिक्षकों द्वारा संचालित की गई. ‘हनी मैन ऑफ़ बिहार’ (Honey Man of Bihar) संजय कुमार चौधरी ने भी बतौर अतिथि प्रशिक्षक सभी महिला किसानों के सामने व्यापार संवर्धन के महत्वपूर्ण पहलुओं को उजागर किया. उन्हें मधुमक्खी के विभिन्न प्रकार, उनके छत्तों के रखरखाव और उत्पादन हेतु अनुकूल वातावरण के बारे में विस्तार से बताया.

बता दें कि अपने सामाजिक उद्देश्यों के अनुरूप एनटीपीसी के आर ऐंड आर विभाग (Rehabilitation & Resettlement Department) द्वारा यह तीन दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई. इस दौरान विभाग के अधिकारीगण श्रीमती वीरा संगीता बखला, अंजुला अग्रवाल और विकाश हेला ने कार्यशाला का संचालन किया.

एनटीपीसी के इस पहल से लाभान्वित महिलाओं ने एनटीपीसी बाढ़ परियोजना की सराहना की. सबों ने कहा कि वे इस प्रशिक्षण की मदद से सशक्त महसूस कर रही हैं और अब अपना लघु व्यापार प्रारम्भ करने में सक्षम हैं.

अब तक 60 स्थानीय निवासियों को प्रशिक्षण

एनटीपीसी बाढ़ परियोजना द्वारा आयोजित यह ऐसी तीसरी कार्यशाला थी जिसके माध्यम से परियोजना प्रभावित निवासियों को स्वरोज़गार के लिए प्रशिक्षित और प्रेरित किया गया. बता दें कि इससे पूर्व जैविक खाद और मशरूम उत्पादन का प्रशिक्षण भी दिया जा चुका है. मौजूदा पहल को मिलाकर कुल 60 ग्रामीण कृषक माहिलाओं को रोजगार प्रशिक्षण दिया गया है.

गौरतलब है कि एनटीपीसी बाढ़ के जनकल्याण कार्यक्रम के कारण अभी तक कई परियोजना प्रभावित ग्राम निवासियों के जीवन स्तर में सुधार आया है. एनटीपीसी द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, भविष्य में भी नई पहलों की मदद से बाढ़ परियोजना द्वारा जनहित का कार्यक्रम का आयोजन होता रहेगा.